Home » आप राष्ट्र के नाम संबोधन सुनते रहे और अप्रैल से अब तक 1.89 करोड़ नौकरियां चली गईं

आप राष्ट्र के नाम संबोधन सुनते रहे और अप्रैल से अब तक 1.89 करोड़ नौकरियां चली गईं

3 महीने तक मिलेगी आपको आधी सैलरी, जानिए कैसे ले सकते हैं लाभ?
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) के आंकड़ों के मुताबिक, कोरोना वायरस महामारी के बीच अप्रैल से अब तक 1.89 करोड़ नौकरियां चली गई हैं। सीएमआईई ने बताया है कि अप्रैल में 17.7 करोड़ वैतनिक नौकरियां गईं और इसके बाद मई में एक लाख नौकरियां चली गईं।

सीएमआईई (CMIE) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) महेश व्यास ने कहा, ‘वैतनिक नौकरियां आसानी से नहीं जाती हैं लेकिन उन्हें दोबारा पाना उससे अधिक मुश्किल होता है। इसलिए उनकी बढ़ती संख्या चिंता का विषय है। उन्होंने आगे कहा, ‘2019-20 में अपने औसत की तुलना में 1.9 करोड़ वैतनिक नौकरियां कम थीं। ये नौकरियां पिछले वित्तीय वर्ष की तुलना में 22 फीसदी कम थीं।’

READ:  मानसून की बेरुखी से किसान परेशान, अब तो सूखने लगी है ज़मीन

 Explained: How Telemedicine is helpful during COVID‐19 Pandemic?

ताजा सीएमआईई (CMIE) आंकड़ों में यह भी दिखाया गया कि इस दौरान 68 लाख दिहाड़ी मजदूरों की नौकरी चली गई। हालांकि, इस दौरान 1.49 करोड़ लोग कृषि संबंधित कार्यों से जुड़ गए। सीएमआईई ने कहा है कि जब से लॉकडाउन शुरू हुआ है तब से नौकरीपेशा कर्मचारियों की स्थिति खराब ही होती गई है।

अब तक 1.89 करोड़ लोगों की नौकरी जा चुकी है। सीएमआईई ने कहा है कि नौकरीपेशा लोगों के लिए स्थिति लगातार खराब हुई है। गौरतलब है कि भारत में करीब 21 फीसदी लोग नौकरीपेशा हैं, जिन पर कोरोना की मार सबसे अधिक पड़ी है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।