Home » चिराग पासवान के खिलाफ बगावत, लोजपा के पांच सांसदों ने किसी और को चुन लिया पार्टी अध्यक्ष

चिराग पासवान के खिलाफ बगावत, लोजपा के पांच सांसदों ने किसी और को चुन लिया पार्टी अध्यक्ष

Chirag Paswan : चिराग पासवान के खिलाफ पार्टी में बगावत शुरू !
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report| News Desk | Chirag Paswan | LJP chief Chirag Paswan faces revolt | लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के संस्थापक रामविलास पासवान के निधन के एक साल से भी कम समय के बाद उनकी पार्टी टूटने के कगार पर है। सूत्रों के मुताबिक उसके छह में से पांच सांसद पार्टी अध्यक्ष चिराग पासवान के खिलाफ बगावत पर उतर चुके हैं।

ज्योतिरादित्य सिंधिया को पहना दी ‘बेशर्मी की माला’, देखते रह गए सुरक्षाकर्मी!

पांच लोकसभा सदस्यों में श्री पासवान के चाचा पशुपति नाथ पारस और चचेरे भाई प्रिंस राज भी शामिल हैं। अन्य तीन चंदन सिंह, वीना देवी और महबूब अली केसर हैं। पांचों ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को पत्र लिखकर पासवान की जगह पर पारस को सांसदीय दल के अध्यक्ष के रूप में मान्यता देने के लिए कहा है। पार्टी महासचिव अब्दुल खालिक ने कहा, “अभी, चिराग पासवान लोजपा के अध्यक्ष हैं।”पारस ने इस पूरे वाक्य पर कोई टिपण्णी नहीं दी है, कयास लगाए जा रहे है की पासवान आज शाम तक कोई बयान ज़ारी करेंगे।

पार्टी में मतभेद बिहार विधानसभा चुनाव से पहले ही बढ़ गए थे, जब पारस और केसर सहित कई सदस्यों ने पासवान की नेशनल डेमोक्रेटिक एलाईन्स (NDA) गठबंधन के बाहर अकेले चुनाव लड़ने की रणनीति पर सवाल उठाया और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और जनता दल (यूनाइटेड) के खिलाफ सीधी लड़ाई लड़ी। स्तिथी को और बिगाड़ने के लिए पारस ने नितीश की तारीफ़ तब की जब उनके भतीजे पासवान नितीश पर राजनीतिक हमले कर रहे थे। पार्टी ने दावा किया था कि पारस को गलत तरीके से दर्शाया गया था और उन्हें अपना बयान वापस लेने के लिए मजबूर किया गया था।-

READ:  समुद्र के अंदर से निकला विशाल जहाज, ये है घोस्ट शिप!

MP में 1,70,000 मौतें सिर्फ मई महीने में, ये ‘शवराज का मृत्यु प्रदेश’ है!

पांचों सांसदों का यह कदम केंद्र में संभावित कैबिनेट फेरबदल से ठीक पहले आया है। श्री पारस उम्मीद कर रहे हैं कि उनके भाई की मृत्यु पर खाली हुए पद पर उन्हें समायोजित किया जाएगा। श्री पासवान ने भी केंद्रीय मंत्रिमंडल में अपने पिता का स्थान लेने की अपनी आशा को पक्का कर लिया था। जद (यू) और नितीश कुमार के पासवान से मतभेद सार्वजनिक रूप से जाने जाते है और वह पासवान का नामांकन स्वीकार करें ये तो बहुत मुश्किल है। हाल ही में एनडीए के सहयोगी दलों की वर्चुअल मीटिंग में पासवान ने तबीयत खराब होने का हवाला देते हुए बैठक में भाग नहीं लिया था। हालांकि, सूत्रों ने कहा कि जद (यू) ने स्पष्ट कर दिया था कि वे पासवान की उपस्थिति को बर्दाश्त नहीं करेंगे।

READ:  झाड़फूंक से नहीं, जागरूकता से हारेगा कोरोना

“नीतीश कुमार चिराग पासवान को बाहर चाहते है और उन्होंनेही पूरी योजना बनाई है। अकेले लोजपा की वजह से जद (यू) को 30-40 सीटें गंवानी पड़ीं और यही वजह है कि वे बदला लेने के लिए तैयार हैं, ”लोजपा के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा। पारस ने इस पूरे वाक्य पर कोई टिपण्णी नहीं दी है, कयास लगाए जा रहे है की पासवान आज शाम तक कोई बयान ज़ारी करेंगे।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।