Home » उमर खालिद के साथ मिलकर ताहिर हुसैन नें रचा था दिल्ली में दंगों का षडयंत्र?

उमर खालिद के साथ मिलकर ताहिर हुसैन नें रचा था दिल्ली में दंगों का षडयंत्र?

Tahir Hussain Behind Delhi Violence
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | New Delhi

दिल्ली पुलिस ने दिल्ली के उत्तर पूर्वी हिस्से में हुए दंगोंं (Delhi Riot Chargesheet) को लेकर चार्जशीट दाखिल कर दी है। आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन (Tahir Hussain) सहित 27 लोगों के खिलाफ अदालत में दो आरोपपत्र दाखिल किये गए हैं। आरोपपत्र में ताहिर हुसैन को दिल्ली दंगों का मास्टर माईंड बताया गया है। दोनों ही आरोपपत्र में पूर्व जेएनयू छात्र उमर खालिद के नाम का ज़िक्र किया गया है। दूसरे आरोप पत्र में पुलिस ने पिंजरा तोड़ संगठन की नताशा नरवाल और देवांगना कलिता को भी आरोपी बनाया है।

दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में 10 बड़ी बातें-

01

1030 पन्नों के आरोप पत्र में 75 गवाह

कडकडडूमा स्थित मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष पुलिस टीम नें आरोप पत्र दाखिल किया। पुलिस की ओर से 1030 पन्नों का आरोप पत्र दाखिल किया गया जिसमें 75 लोगों की गवाही दर्ज है।

02

आईबी अधिकारी अंकित शर्मा की हत्या का आरोपी ताहिर

आरोप पत्र में पुलिस ने ताहिर व अन्य को आईबी अधिकारी अंकित शर्मा की हत्या का आरोपी भी बनाया है। पुलिस ने ताहिर पर उमर खालिद से मिलने और हिंसा की रुपरेखा तैयार करने का आरोप लगाया है।

03

चांदबाग में हिंसा के लिए ताहिर का घर इस्तेमाल

चांदबाग हिंसा मामले में अपराध शाखा ने ताहिर और उनके भाई शाह आलम सहित 15 लोगों के खिलाफ हत्या, हत्या के प्रयास सहित विभिन्न आरोपों में अदालत में आरोपपत्र दाखिल किया। जांच के दौरान यह सामने आया कि हुसैन उत्तर पूर्व दिल्ली में हिंसा फैलाने की गहरी साजिश में शामिल रहा है। हुसैन ने चांदबाग में हिंसा की शुरुवात की और भीड़ उनके घर की छत पर जमा हुई, जहां से पत्थर और पेट्रोल बम चलाए गए । पुलिस अदालत में यह नहीं बता पाई कि ताहिर की छत पर जो पैट्रोल बम मिले वह कहां से लाए गए।

READ:  One year of Umar Khalid's custody without trial, Timeline of his case
04

ताहिर ने 31 जनवरी को 100 गोलियां खरीदी थी

जांच के दौरान यह सामने आया कि ताहिर के साथी गुलफाम ने 31 जनवरी को 100 गोलियां खरीदी थी लेकिन पुलिस को सात ही बरामद हुई। ताहिर के पास से 22 खाली कारतूस और 64 ज़िदा कारतूस बरामद हुए। ताहिर की पिस्टल जब्त कर ली गई है। आरोप पत्र में पुलिस ने कहा कि हिंसा से ठीक पहले ताहिर ने खजूरीखास थाना से अपना पिस्टल लाईसेंस जारी करवाया था।

05

हिंसा फैलाने के लिए 1.10 करोड़ खर्च किए

दिल्ली पुलिस ने ताहिर हुसैन पर हिंसा फैलाने के लिए 1.10 करोड़ खर्च करने का आरोप लगाया है। अपराध शाखा ने कहा कि पहले इन पैसों को फर्जी कंपनियों में भेजा गया और उसी पैसे को रोटेट करके नकद प्राप्त किया, जिससे हिंसा की तैयारी शुरु की । इन पैसों से एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन को वित्तीय मदद दी गई।

06

हिंसा से पहले घर के आसपास के सीसीटीवी बंद करवाए

पुलिस के अनुसार बड़ा घर होने की वजह से ताहिर का घर चुना गया ताकि ज़्यादा से ज्यादा लोगों को निशाना बनाया जा सके। हिंसा के पहले घर के आसपास के सीसीटीवी को बंद कर दिया गया था।

07

उमर खालिद ने ताहिर को ट्रंप दौरे के दौरान तैयार रहने को कहा था

चार्जशीट में पुलिस ने दावा किया है कि 8 जनवरी को हुसैन, खालिद सैफी और उमर खालिद से शाहीन बाग में मिला। ताहिर ने स्वीकार किया है कि उमर खालिद ने उसे अमेरिकी राष्ट्रपति के दौरे के दौरान कुछ बड़ा करने के लिए तैयार रहने को कहा था। उमर खालिद और पीएफआई के सदस्यों ने इसके लिए आर्थिक मदद का भरोसा दिया था।

READ:  Delhi crime capital? most unsafe for women
08

पिंजरा तोड़ का दंगा कनेक्शन

जाफराबाद स्टेशन से जुड़े मामले में पुलिस ने गैर सरकारी संगठन पिंजरा तोड़ और उसकी सदस्य नताशा नरवाल और देव्यांगना कलिता सहित 12 लोगों के खिलाप हत्या, हत्या के प्रयास सहित कई धाराओं में मामला दर्ज कर आरोपपत्र दाखिल किया है। दोनों सदस्यों ने महिलाओं को सीएए और एनआरसी के नाम पर भड़काया और गहरी साजिश रची। दोनों ही सदस्य उमर खालिद और पीएफआई के सदस्यों से लगातार मिलती रहीं।

09

700 से अधिक मुकदमे दर्ज

दिल्ली हिंसा के मामले में पुलिस ने 700 से अधिक मुकदमे दर्ज किए हैं। 1300 लोगों को पुलिस अबतक गिरफ्तार कर चुकी है। 700 लोगों को पुलिस ने लॉकडाउन के दौरान गिरफ्तार किया।

10

दिल्ली दंगों में 53 लोगों ने जान गंवाई थी

दिल्ली के उत्तर पूर्वी हिस्से में भड़के सांप्रदायिक दंगों में 53 लोगों की मौत हुई थी और 200 लोग घायल हुए थे। दिल्ली ने 1984 के सिख दंगों के बाद इतना भयंकर दंगा देखा था। इस दंगें ने कई घर बर्बाद कर दिए।

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।