आंकड़ों में जानिए: क्या शहर और सड़क के नाम बदलने से रोजगार होगा उत्तर प्रदेश का युवा?

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नेहाल रिज़वी, ग्राउंड रिपोर्ट

देश का सबसे ज़्यादा जनसंख्या वाला प्रदेश यूपी आज ‘बेरोज़गारी का हब’ बन चुका है। राष्ट्रीय सांख्यिकी द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार देश में बेरोज़गारी के आंकड़ों में यूपी सबसे ज़्यादा प्रभावित रहा । 2018 में ख़त्म तिमाही में उत्तर-प्रदेश में लगभग 16 फीसदी की दर से बेरोज़गारी दर्ज की गई थी।

वहीं पूरे देश की बात करें तो अक्टूबर से दिसंबर तिमाही के बीच 9.9 फीसदी रही। अक्तूबर- दिसंबर 2018 तिमाही में बेरोजगारी के आंकड़ों में यूपी पहले स्थान पर रहा है।

उत्तर प्रदेश 15.8%
ओडिशा 14.2%
उत्तराखंड 13.6%
जम्मू-कश्मीर 13.5%
बिहार 13.4
दिल्ली 11.8%
गुजरात 4.5%
कर्नाटक 5.9%
असम 6%
पंजाब 7%
छत्तीसगढ़ 7.8%
पश्चिम बंगाल 8%

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार 21 करोड़ की आबादी वाले इस प्रदेश में लगभग 5.2 करोड़ युवा रोज़गार के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं।

आकंड़ों के अनुसार यूपी में प्रति 1000 व्यति में से हर 39 युवा बेरोज़गार हैं। भारत के लिए यही आंकड़ा 50 व्यक्ति का है। उत्तर प्रदेश में शहरी आबादी में प्रति 1000 व्यक्ति 29 लोग बेरोजगार हैं। जबकि ग्रामीण आबादी में 1000 आदमी पर केवल 10 आदमी बेरोजगार है।

योगी सरकार उद्योग-धंधे लगाने के बजाए नामों को बदलने में लगी हुई है. यूपी में उधोग-धंधे को स्थापित करने को लेकर सरकार ने बीते 2 सालों में कोई ऐसा कदम नहीं उठाया जिससे नए-नए उद्योगों को यूपी में स्थापित कर युवायों को रोजगार से जोड़ा जा सके.

प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने धर्म की ऐसी सियासत को यूपी में शुरू कर दिया है, जिसने प्रदेश के विकास का गला दबा दिया है। शहरों और स्टेशनों के नाम को बदलने की प्रक्रिया में लाखों करोड़ों रुपये की बर्बादी करना। सड़कों, चौराहों और मोहल्लों के नाम को बदल कर क्या यूपी में विकास हो जाएगा?

उत्तर प्रदेश व्यापार के क्षेत्र में भी सबसे आगे रहा है। देश में एक बहुत बड़ी मार्किट के रूप में यूपी को जाना जाता रहा है। मगर जब से हर छोटे से छोटा सामान भी चीन से बनकर यहाँ आने लगा है तब से यहां के स्वदेशी सामान बनना बिल्कुल बंद हो चुका है जिसके चलते भी लाखों लोगों का रोज़गार चला गया है।

योगी सरकार को प्रदेश के विकास को आगे बढ़ना होगा वरना आने वाले समय में बेरोज़गारी का ये रूप और भी भयानक होने कि स्थिति बनी हुई है।