Opinion

किसानों का दमन करती सरकार

किसानों का दमन करती सरकार की नीति, नए कृषि कानूनों से किसको फायदा?

विचार, गार्गी चतुर्वेदी।। बीएसएनएल याद है? तरह तरह के नाम से मशहूर यह कंपनी टेलीकॉम की सबसे बड़ी कंपनी थी। सरकारी होने के नाते इसकी नैतिक ज़िम्मेदारी थी गावों में इंटरनेट पहुंचना। 2016 में जियो नेटवर्क के आने के बाद से ही बीएसएनएल का पतन शुरू हुआ। वो बीएसएनएल जो लाखों कर्मचारियों को नौकरी देता …

किसानों का दमन करती सरकार की नीति, नए कृषि कानूनों से किसको फायदा? Read More »

सावित्री बाई फुले

महिलाओं और शूद्रों को पढ़ाने का बीड़ा उठाने वाली भारत की प्रथम महिला टीचर

भारत की प्रथम महिला टीचर माता सावित्री बाई फुले ने महिलाओं और शूद्रों को पढ़ाने का बीड़ा उठाया था. ऐसा करने के लिए उन्होंने अपनी जान की बाजी तक लगा दी थी. जब भी वे पढ़ाने जाती थीं तो ब्राह्मणवादी लोग उनपर गोबर और पत्थर फेंकते थे. मनुवादियों को लगता था कि ऐसा करने से …

महिलाओं और शूद्रों को पढ़ाने का बीड़ा उठाने वाली भारत की प्रथम महिला टीचर Read More »

किसान आंदोलन और दिल्ली में बारिश

चाहते तो वो भी अपने घरों में बैठ बारिश में चाय और पकोड़ों का मज़ा ले सकते थे

दिल्ली में जब आज लोग सुबह उठे तो बाहर ज़ोरदार बारिश हो रही थी। रविवार का दिन था मौसम हसीन हो गया था, ठंड लग रही थी लेकिन सर पर छत है, बढ़िया वाली रजाई है और हीटर भी लगा है। और तो और सरकार से भी कोई गिला शिकवा नहीं है। तो अब क्या …

चाहते तो वो भी अपने घरों में बैठ बारिश में चाय और पकोड़ों का मज़ा ले सकते थे Read More »

ट्रॉली टाइम्स

जब मीडिया ‘सरकारी भोंपू’ बन भौके, तब Trolley Times जैसे अख़बार ज़रूरी

जब प्रेजेंट टाइम में पत्रकारिता का टाइम खराब चल रहा हो, बड़े बड़े टाइम्स पत्रकारिता छोड़कर दलाली कर रहे हो तो ऐसे में ट्रॉली टाइम्स जैसे न्यूज़ पेपर लॉंच होना ही था। टिकरी बॉर्डर पर किसानों के लिए ट्रॉली टाइम्स न्यूज़ पेपर लॉंच किया गया है। करीब 60 लोगों की टीम जिस में ज्यादा से …

जब मीडिया ‘सरकारी भोंपू’ बन भौके, तब Trolley Times जैसे अख़बार ज़रूरी Read More »

भारतीय महिला

प्रतिभा पाटिल, भारतीय महिला और सामाजिक नेतृत्व

भारतीय समाज को पुरुष प्रधान समाज माना जाता है। बहुत हद तक सच्चाई भी यही है। अगर ऐसा नहीं होता, तो समाज में बेटियों की यह स्थिति नहीं होती, जो दुनियाभर में है। यहां नाकारात्मक होने की जरूरत नहीं है। महिलाओं की सभी देशों में आजादी दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है। पर वह आजादी इतनी नहीं …

प्रतिभा पाटिल, भारतीय महिला और सामाजिक नेतृत्व Read More »