Home » Manjul: कार्टूनिस्ट मंजुल को बीच कॉन्ट्रैक्ट नेटवर्क18 ने निकाला !

Manjul: कार्टूनिस्ट मंजुल को बीच कॉन्ट्रैक्ट नेटवर्क18 ने निकाला !

Manjul | कार्टूनिस्ट मंजुल को बीच कॉन्ट्रैक्ट नेटवर्क18 ने निकाला !
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk | Manjul | Cartoonist Manjul dropped from Network18 | मशहूर राजनीतिक कार्टूनिस्ट मंजुल को नेटवर्क18 ने कॉन्ट्रैक्ट को रद्द करते हुए निकाल दिया है। कुछ दिन पहले ही ट्विटर ने मंजुल को नोटिस भेज कर सूचित किया था कि भारतीय प्राधिकारियों ने क़ानूनी अनुरोध (Request) कर ट्विटर से कहा की वह मंजुल की सोशल मीडिया प्रोफाइल के खिलाफ कार्यवाही करें।

पांच नाबालिगों और 18 साल के युवक ने किया 10 साल की बच्ची से दुष्कर्म!

मंजुल कॉन्ट्रैक्ट के आधार पर पिछले छह वर्ष से रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी नेटवर्क18 में काम कर रहे थे। मंजुल ने 4 जून को ट्विटर द्वारा भेजे ईमेल को पोस्ट किया था। सरकार ने एक ख़ास ट्वीट के बजाय मंजुल की पूरी प्रोफाइल के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी, जिसमें दावा किया गया था कि यह “भारत के कानून का उल्लंघन करता है”। सोशल मीडिया पर ईमेल को साझा करते हुए, मंजुल ने लिखा: “जय हो मोदी जी की सरकार की ।” उन्होंने यह भी कहा कि अच्छा होता अगर सरकार ये बताती कि उनके किस ट्वीट से समस्या हुई है।

READ:  Gyanvapi Masjid gave land for Kashi Vishwanath temple

मंजुल ने कार्टून के सहारे कोरोना महामारी की दूसरी लहर की पीड़ा और धीमी गति पर हो रहे टीकाकरण को दिखाया था। इससे पहले अप्रैल में सरकार ने ट्विटर से जबरन कई पोस्ट हटवाए थे यह कहते हुए की वह फ़र्ज़ी खबर फैला रहे है, पर वास्तव में वह सरकार की आलोचना कर रहे थे। मंजुल के विवाद के बीच ट्विटर ने गुरुवार को वकील प्रशांत भूषण को कार्टूनिस्ट सतीश आचार्य द्वारा बनाये गए एक चित्र को शेयर करने के लिए नोटिस थमा दिया। ट्विटर के मुताबिक वह पोस्ट भारत के कानून का उल्लंघन है। इस पूरे घटना पर उन्होंने एक ट्वीट भी साझा किया :

Sushant Singh Rajput पर फिल्म बनाने पर दिल्ली हाईकोर्ट ने कही यह बात

READ:  नागरिक उड्डयन मंत्री बनते ही सिंधिया की मध्य प्रदेश को बड़ी सौगात!

सरकार और अलग अलग साइट्स के बीच नए नियमों की वजह से पहले ही कई मतभेद चल रहे हैं। फरवरी में घोषित और मई से लागु हुए यह नए नियम की वजह से वेबसाइट पर डाला हुआ कंटेंट अब से पूर्णता सरकार की निगरानी में रहेगा। ट्विटर ने पहले भी कहा है की वह हर संभव कोशिश कर रहा है जिससे की नए नियमों के तहत वह काम कर सके पर इसके लिए वह अपने यूज़र्स की बोलने की आज़ादी को खतरे में नहीं डालेगा।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।