Home » एयर इंडिया के दिवंगत पायलट दीपक साठे ने विमान को पूरा क्रैश होने से बचाया !

एयर इंडिया के दिवंगत पायलट दीपक साठे ने विमान को पूरा क्रैश होने से बचाया !

एयर इंडिया के दिवंगत पायलट दीपक साठे
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोझिकोड हवाईअड्डे पर एयर इंडिया एक्सप्रेस के एक विमान के शुक्रवार शाम दुर्घटनाग्रस्त होने की घटना में पायलट दीपक साठे की मौत के बाद उत्तर पूर्व मुंबई के पवई उपनगर में मातम पसर गया है।

एयर इंडिया के पायलट दीपक साठे…कोझीकोड में शुक्रवार को हुए प्लेन हादसे में उनकी जान चली गई। लेकिन, उन्होंने अपने अनुभव और सूझबूझ से 169 पैसेंजर्स को बचा लिया। प्लेन में आग लग जाती तो बहुत से लोग मारे जाते। दीपक के कजिन और दोस्त नीलेश साठे ने फेसबुक पोस्ट में बताया कि दीपक ने किस तरह प्लेन को आग लगने से बचाया।

‘प्लेन के लैंडिंग गियर्स ने काम करना बंद कर दिया था। दीपक साठे ने एयरपोर्ट के तीन चक्कर लगाए, ताकि फ्यूल खत्म हो जाए। तीन राउंड के बाद प्लेन लैंड करवा दिया। उसका राइट विंग टूट गया था। प्लेन क्रैश होने से ठीक पहले इंजन बंद कर दिया। इसलिए एयरक्राफ्ट में आग नहीं लगी।’

बहुत ही अनुभवी पायलट थे कैप्टन दीपक साठे

कैप्टन साठे साठे इंडियन एयरफोर्स में विंग कमांडर रह चुके थे। एयर इंडिया में शामिल होने से वह पहले भारतीय वायुसेना में एक प्रायोगिक परीक्षण पायलट थे। बताया जा रहा है कि कैप्टन दीपक साठे मिग 21 के भी पायलट थे, जो 17 स्क्वाड्रन (गोल्डन एरो) अंबाला में रहे। स्क्वाड्रन 1999 कारगिल युद्ध में भी गया था। कैप्टन साठे वायुसेना प्रशिक्षण अकादमी में प्रशिक्षक भी रहे। साठे साठे ने एयरफोर्स में लंबा समय बिताया था।

11 जून 1981 को एयरफोर्स में कमीशन मिली थी और 22 साल की सेवा के बाद 30 जून 2003 को रिटायर हुए थे। एयरफोर्स में उन्होंने एएफए में स्वॉर्ड ऑफ ऑनर जीता था और फाइटर पायलट बने थे। एयर इंडिया एक्सप्रेस 737 में जाने से पहले दीपक साठे एयर इंडिया के एयरबस 310 की उड़ान भी भर चुके थे। इसके अलावा वह एचएएल के टेस्‍ट पायलट भी रहे थे। जानकारों की मानें तो यह पायलट की समझदारी ही थी, जिसकी वजह से ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों की जान बचाने में कामयाब रहे।

READ:  Amit Shah increases the power of BSF

मोदी ज़िंदाबाद और जय श्री राम ना कहने पर बुज़ुर्ग मुस्लिम को बुरी तरह पीटा गया

केरल में पिछले दिनों लगातार बारिश हो रही है। इस विमान हादसे की एक प्रमुख वजह बारिश भी मानी जा रही है। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) के अधिकारियों ने कहा कि भारी बारिश के चलते दृश्यता करीब दो हजार मीटर ही थी। इससे विमान की हार्ड लैंडिंग हुई। ऐसे में विमान के अगले हिस्से को भारी नुकसान पहुंचा। वैसे, हादसे के कारण की आधिकारिक पुष्टि अभी तक नहीं हुई।

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।