by election result MP

By-elections : ये चुनाव इतना महत्वपूर्ण क्यों, एक नज़र फैक्ट फाइल और वर्तमान स्थिति पर

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Madhya Pradesh By-elections : मध्य प्रदेश उपचुनाव को लेकर राजनीतिक सर गर्मियां तेज़ हो चुकी हैं। 27 विधनासभा क्षेत्रों में होने वाला उपचुनाव By-elections बीजेपी और कांग्रेस के लिए एक बड़ी अग्निपरीक्षा के तौर पर होने वाला है। अन्य राजनीतिक दलों ने भी अपनी चुनावी तैयारियों को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया है। बीएसपी ने भी घोषणा करते हुए कह दिया है कि वो सभी 27 सीटों पर उपचुनाव लड़ेगी।

मध्य प्रदेश उपचुनाव: बीएसपी की इस रणनीति ने बढ़ा दी बीजेपी-कांग्रेस की टेंशन!

वहीं चुनावी सरगर्मियों के बीच मध्य प्रदेश उपचुनाव ( By-elections) को लेकर चुनाव आयोग ने कहा है कि सभी 27 सीटों पर 29 नवंबर से पहले वोटिंग करा ली जाएगी। इलेक्शन कमीशन ने बड़ी घोषणा करते हुए कहा है कि, बिहार विधानसभा चुनाव के साथ ही मध्य प्रदेश में भी उपचुनाव करवाए जाएंगे। चुनाव आयोग ने कहा कि, देश भर में 64 ऐसी विधानसभा सीट है जहां उपचुनाव होने हैं इसमें मध्य प्रदेश की 27 विधानसभा सीटें भी शामिल हैं।

By-elections : एक नज़र फैक्ट फाइल और वर्तमान स्थिति पर

  •  230 विधानसभा सीटें मध्य प्रदेश में
  • 2018 के चुनाव में 114 सीटें
  • कांगेस ने जीती 109
  • 114 सीटें चाहिए सरकार बनाने  के लिए
  • 107 सीटें भाजपा के पास
  • 89 कांग्रेस, 04 निर्दलीय
  • 02 बसपा, 01 सपा
  • 27 सीटें रिक्त इन पर होगा उप चुनाव
  • 25 सीट विधायकों के  इस्तीफे से खाली हुई हैं
  • 02 सीट विधायकों के निधन से
READ:  सांवेर उपचुनाव में सिलावट vs प्रेमचंद, ढाई लाख मतदाता तय करेंगे इनका भविष्य

ये चुनाव इतना महत्वपूर्ण क्यों ?

22 बागी विधायकों के इस्तीफे से गिरी थी कमलनाथ सरकार । 18 विधायक ज्योतिरादित्य के समर्थक थे । 03 और विधायकों ने सरकार गिरने के बाद कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है । 34 विधानसभा सीटें ग्वालियर चम्बल संभाग में है, जिनमें से 26 सीटें 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने जीती थी । 16 विधायकों ने सिंधिया के साथ भाजपा ज्वॉइन कर ली है। इन सीटों पर सिंधिया का खासा प्रभाव है। इनके समर्थकों ने दिए हैं इस्तीफे – ज्योतिरादित्य सिंधिया – दिग्विजय सिंह – सुभाष यादव

पहली बार संघ के आगे नतमस्तक हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया

READ:  कांग्रेस पार्टी को एक और बड़ा झटका, इस बड़े नेता ने सिंधिया की मौजूदगी में भाजपा का थामा दामन

मध्य प्रदेश में जौरा और आगर सीटों पर उपचुनाव की तिथि 6 माह के पार हो चुकी है। वहीं 10 मार्च को कांग्रेस के 22 विधायक इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हो गए थे। 10 मार्च से 10 अगस्त तक 6 महीने पूरे हो चुके हैं। नियमों के मुताबिक, चुनाव 6 महीने के अंदर कराना जरूरी होता है। राज्य की नेपानगर, बड़ामलहरा, डबरा, बदवावर, भांडेर, बमौरी, मेहगांव, गोहद, सुरखी, ग्वालियर, मुरैना, दिमनी, ग्वालियर पूर्व, करेरा, हाटपिपल्या, सुमावली, अनूपपुर, सांची, अशोकनगर, पोहरी, अंबाह, सांवेर, मुंगावली, सुवासरा, जौरा, आगर-मालवा , मान्धाता विधानसभा सीटों पर चुनाव होना है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

%d bloggers like this: