उपचुनाव देश के 11 राज्यों की 56 सीटों पर

11 राज्यों की 56 विधानसभा सीटों पर कल उपचुनाव, समझिए पूरा गणित

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सभी का ध्यान इस समय बिहार में हो रहे विधानसभा चुनावों पर है लेकिन इसके साथ ही देश के 11 राज्यों में अलग-अलग वजह से खाली हुई विधानसभा सीटों पर उपचुनाव भी कराए जा रहे हैं। यह चुनाव सभी पार्टियों के लिए अहम हैं इसीलिए पार्टियों ने उपचुनाव में प्रचार के लिए जान फूंक दी है। उपचुनावों में सबसे अहम मध्यप्रदेश का चुनाव है जहां ज्योतिरादित्य सिंधिया के बागी हो जाने के बाद 28 सीटें खाली हो गई थी और कमलनाथ की सरकार गिर गई थी। अगर कमलनाथ सभी 28 सीटें दोबारा जीत लेते हैं तो मध्यप्रदेश की सत्ता में दोबारा आ सकते हैं। हालांकि बीजेपी को सरकार बरकरार रखने के लिए केवल 8 सीटों की ज़रुरत है।

ALSO READ: बिहार दूसरा चरण: तेजस्वी और तेजप्रताप की किस्मत दांव पर

कहां-कहां है उपचुनाव?

देश में कुल 63 विधानसभा सीटें इस समय खाली हैं। 54 सीटों पर मंगलवार को उपचुनाव होगा। मनीपुर की दो सीटों पर 7 नवंबर को मतदान होगा। बची हुई 7 सीटों पर चुनाव आयोग ने अभी चुनाव कराने का फैसला नहीं लिया है। यह सीटें केरल, तमिलनाडू, असम और पश्चिम बंगाल की हैं जहां अगले साल ही विधानसभा चुनाव भी होना है।

ALSO READ: Bihar Assembly Elections Second Phase Voting: 1463 में से 502 उम्मीदवारों पर क्रिमिनल केस दर्ज, 49 महिला उत्पीड़न तो 4 रेप के आरोपी

मध्यप्रदेश 28 सीटों पर उपचुनाव

मध्यप्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में शामिल हो जाने के बाद उनके पाले के 22 विधायकों ने भी बीजेपी का दामन थाम लिया था। इसके बाद मध्यप्रदेश में कमलनाथ नीत कांग्रेस सरकार गिर गई थी। 22 विधायकों के बाद 3 और विधायक बीजेपी में चले गए थे और 3 सीटें विधायकों की मौत की वजह से खाली हो गई थी। इस तरह कुल 28 सीटों पर मध्य प्रदेश में उपचुनाव कराए जा रहे हैं।

अभी की स्थिति में बीजेपी के पास सदन में 107 सीटें हैं। बीजेपी को सरकार बनाए रखने के लिए केवल 9 और सीटें जीतने की ज़रुरत है। वहीं कांग्रेस को सभी 28 सीटों पर जीत दर्ज करनी होगी अगर वे दोबारा सत्ता में आना चाहते हैं।

गुजरात में 8 सीटों पर उपचुनाव

जून में राज्यसभा चुनाव के दौरान कई विधायकों ने पाला बदल लिया था। बीजेपी ने 8 सीटों में से 5 पर उन्ही कांग्रेस उम्मीदवारों को उतारा है जो कांग्रेस छोड़ बीजेपी में आए थे। बीजेपी राज्य में आठों सीटें जीतना चाहती है तो वहीं कांग्रेस अपनी खोई सीटें फिर से पाने की कोशिश कर रही है। यहां चुनाव में जीत हार से सत्ता को कोई नुकसान नहीं होगा क्योंकि बीजेपी के पास ज़रुरी बहुमत पहले से मौजूद है।

यूपी की 7 सीटों पर मतदान

यूपी में जिन 7 सीटों पर उपचुनाव हैं 2017 में उन सीटों में 6 बीजेपी के पास थी तो एक सीट समाजवादी पार्टी के पास। अब उपचुनाव में दोबारा इन सीटों को जीतन सभी पार्टियों के लिए टेड़ी खीर साबित होने वाला है। इस सीट बांगरमउ बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर के रेप केस में जेल जाने की वजह से खाली हुई है। बीजेपी, कांग्रेस , बसपा और सपा सभी इन 7 सीटों पर नज़र गड़ाए बैठे हैं।

अन्य राज्यों की 13 सीटों पर भी मतदान

कर्नाटक, ओडिशा, झारखंड, नागालैंड और मनीपुर की 2-2 सीटों पर उपचुनाव होना है। मनीपुर में 7 नवंबर को मतदान होगा। तेलंगाना, हरियाणा और छत्तीसगढ़ की 1-1 सीट पर उपचुनाव होगा।

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups