मुस्लिम महिलाओं की बोली लगाने वाला ऐप Bulli Bai बनाने वाले का नाम आया सामने

Bulli Bai केस में मुंबई पुलिस ने बेंगलुरु से विशाल झा नाम के एक इंजीनियर को गिरफ्तार किया है। यह ऐप गिट हब प्लैटफॉर्म पर बनाया गया था, जिसमें जानी मानी मुस्लिम महिला पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता और एक्टिविस्ट्स की ऑनलाईन बोली लगाई जा रही थी।

कौन है विशाल झा?

मुंबई पुलिस विशाल से पूछताछ शुरु करेगी और इसके मुख्य अपराधी तक पहुंचने की कोशिश करेगी। इस मामले में उत्तराखंड से भी एक महिला की गिरफ्तारी हुई है। विशाल झा की उम्र महज़ 21 वर्ष है और यह व्यक्ति बुल्ली बाई एप से जुड़ा हुआ था। इस मामले में अभी और खुलासे होने बाकि है।

इससे पहले गिट हब पर ही सुल्ली डील नाम से एक ऐप आया था जिसमें 80 से ज्यादा मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें बिना इजाज़त के नीलाम की गई। इस ऐप के ज़रिए इस्तेमाल करने वाले तक मैसेज जाता था जिसमें लिखा होता था ‘योर डील ऑफ द डे’ इसमें मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें होती थी। रितेश झा नाम के व्यक्ति ने यह स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए हिंदू लड़कों से बोली लगाने को कहा था। इसके बाद उसका नाम ट्विटर पर गिरफ्तारी के लिए ट्रेंड हुआ।

कौन है रितेश झा?

रितेश झा का नाम पिछले वर्ष सुल्ली डील्स के समय चर्चा में आया था। उसने एक कॉल रिकॉर्डिंग पर यह कबूल किया था कि उसने घर में काम करने वाली मुस्लिम महिला का न सिर्फ यौन शोषण किया बल्कि उसका वीडियो इंटरनेट पर भी डाला था। रितेश को गिरफ्तार करने की मांग उठी लेकिन कोई कार्रवाई इसपर नहीं हुई। सुल्ली डील्स के समय पुलिस द्वारा अपनाया गया ढीले रवैये ने ही सुल्ली डील जैसे नए ऐप को जन्म दिया है। अगर उस समय इस मामले में कड़ी कार्रवाई होती तो शायद कोई भी इस तरह की हरकत दोबारा नहीं कर पाता।

क्यों हैं इस तरह के ऐप्स खतरनाक?

यह एप्स सांप्रदायिक मानसिकता के साथ तैयार किए जाते हैं। इनका काम समाज में ज़हर घोलना होता है। इसके ज़रिए उन महिलाओं को टारगेट किया जाता है जो समाज में होने वाले अन्याय के खिलाफ आवाज़ उठाती हैं। आप खुद सोचिए अगर आपके घर की किसी महिला की तस्वीर इस तरह लोगों के फोन पर नीलामी के लिए भेजी जाए तो आपको कैसा लगेगा। जिन महिलाओं के फोटो शेयर किए गए उनके लिए यह मानसिक प्रताड़ना देने वाला रहा है।

ALSO READ: List Indian Muslim women auctioned on Bulli Bai App

ALSO READ: What is ‘Bulli Bai’ app: where Photos of Muslim Women Misused

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।