Buddha Purnima 2021

Buddha Purnima 2021: गौतम बुद्ध को कैसे हुई ज्ञान की प्राप्ति, जानिए क्यों लिया उन्होंने संन्यास

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Buddha Purnima 2021: गौतम बुद्ध के जीवन हर किसी के लिए प्रेरणास्रोत है। गौतम बुद्ध बौद्ध धर्म (Baudh Dharma ) के प्रवर्तक थे। इस साल बुद्ध पूर्णिमा( Buddha Purnima ) 26 मई 2021 को मनाई जाएगी। इस दिन को वैशाख पूर्णिमा( Vaishakh Purnima ) भी कहते हैं। Buddha Purnima 2021: कहा जाता है कि भगवान बुद्ध हरि विष्णु के 9वें अवतार थे इसलिए यह त्यौहार हिंदुओं के लिए भी खास है। भगवान बुद्ध को गौतम बुद्ध, सिद्धार्थ और तथागत भी कहा जाता है।

गौतम बुद्ध को कैसे हुई ज्ञान की प्राप्ति

29 साल की उम्र में राजमहल, परिवार और सारी मोह-माया से को छोड़कर उनका मन वैराग्य में चला गया और उन्होंने संन्यास ले लिया। बुद्ध के गुरु आलार कलाम थे, जिनसे उन्होंने संन्यास काल में शिक्षा ली। 35 साल की उम्र में वैशाखी पूर्णिमा के दिन सिद्धार्थ पीपल वृक्ष के नीचे ध्यान लगा रहे थे। तभी पास के गाँव की एक महिला सुजाता को बेटा हुआ।

Buddha Purnima 2021:कैसे हुई बौद्ध धर्म की स्थापना, क्या है इसका इतिहास

वह बेटे के लिए एक पीपल वृक्ष से मन्नत पूरी करने के लिए सोने के थाल में गाय के दूध की खीर भरकर पहुँची। सिद्धार्थ वहाँ बैठा ध्यान कर रहा था। उसे लगा कि वृक्षदेवता ही मानो पूजा लेने के लिए शरीर धरकर बैठे हैं। सुजाता ने बड़े आदर से सिद्धार्थ को खीर भेंट की और कहा- ‘जैसे मेरी मनोकामना पूरी हुई, उसी तरह आपकी भी हो।’

READ:  Vaccination: 21 जून से 18+ के लोगों के लिए केंद्र सरकार सभी राज्यों को देगी मुफ्त वैक्सीन

उसी रात को ध्यान लगाने पर सिद्धार्थ की साधना सफल हुई। उन्हें सच्चा बोध हुआ। तभी से सिद्धार्थ ‘बुद्ध’ कहलाए। जिस पीपल वृक्ष के नीचे सिद्धार्थ को बोध मिला वह बोधिवृक्ष कहलाया और गया के पास वाली जगह बोधगया कही जाने लगी।

कौन थे भगवान बुद्ध ?

भगवान बुद्ध का जन्म 563 ईस्वी पूर्व कपिलवस्तु के पास  लुम्बिनी में हुआ था, जो नेपाल में है। महारानी महामाया देवी के अपने नैहर देवदह जाते हुए रास्ते में प्रसव पीड़ा हुई और वहीं उन्होंने एक बालक को जन्म दिया। शिशु का नाम सिद्धार्थ रखा गया। गौतम गोत्र में जन्म लेने के कारण वे गौतम भी कहलाए। क्षत्रिय राजा शुद्धोधन उनके पिता थे।

सिद्धार्थ की माता का उनके जन्म के सात दिन बाद निधन हो गया था। उनका पालन पोषण उनकी मौसी और शुद्दोधन की दूसरी रानी महाप्रजावती (गौतमी)ने किया। शिशु का नाम सिद्धार्थ दिया गया, जिसका अर्थ है “वह जो सिद्धी प्राप्ति के लिए जन्मा हो”।

Buddha Purnima 2021: बुद्ध पूर्णिमा के दिन भूलकर भी न करें ये काम, इन बातों का ध्यान रखें

खेल में भी सिद्धार्थ को खुद हार जाना पसंद था क्योंकि किसी को हराना और किसी का दुःखी होना उनसे नहीं देखा जाता था। सिद्धार्थ ने चचेरे भाई देवदत्त द्वारा तीर से घायल किए गए हंस की सहायता की और उसके प्राणों की रक्षा की।

बुद्ध ने ही बौद्ध धर्म की स्थापना की। सालों तपस्या करने के बाद उन्हें बोधगया में बोधिवृक्ष के नीचे ज्ञान की प्राप्ति हुई। 489 ईस्वी पूर्व वैशाख के दिन ही भगवान बुद्ध की मृत्यु हो गयी। इस दिन को परिनिर्वाण दिवस कहा जाता है।

READ:  निचली जाति का कह कर भोज से उठाया, विरोध करने पर पीटा, पुलिस से भी नहीं मिली मदद!

Buddha Purnima 2021: एक राजकुमार कैसे बना शांति दूत, कौन थे भगवान बुद्ध? जानिए इसका इतिहास

बुद्ध पूर्णिमा मनाने का उद्देश्य

भगवान बुद्ध ने जब हिंसा, पाप, मत्यु के बारे में जाना, तब ही उन्होंने मोह-माया त्याग दी और संन्यास ले लिया। जिसके बाद उन्हें सत्य का ज्ञान हुआ । बुद्ध पुर्णिमा के दिन ही गौतम बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। वैशाख पूर्णिमा से भगवान बुद्ध के जीवन की कई घटनाएं जुड़ी हैं इसलिए इस दिन को इतना खास माना जाता है। यही कारण है कि वैशाख पूर्णिमा को ही बुद्ध पूर्णिमा मनाई जाती है।

आप ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@gmail.com पर मेल कर सकते हैं।

%d bloggers like this: