Home » लॉकडाउन की वजह से ब्लड बैंक में खून की किल्लत

लॉकडाउन की वजह से ब्लड बैंक में खून की किल्लत

Blood Shortage amid lockdown in India
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ग्राउंड रिपोर्ट । न्यूज़ डेस्क

कोरोनावायरस की वजह से देश भर में लागू 21 दिन का लॉकडाउन कई तरह की समस्या पैदा कर रहा है। इस लॉकडाउन का सबसे अधिक असर उन मरीज़ों पर पड़ रहा है जो कई तरह की बीमारियों से पीड़ित हैं और पहले से अस्पताल के चक्कर काट रहे हैं। सोशल मीडिया पर कई लोगों ने शिकायत कर बताया कि उन्हें बल्ड बैंक से खून मिलने में समस्या हो रही है। आपको बता दें कि कई बीमारियों में हर 14-15 दिन में खून चढ़ाने की ज़रुरत होती है साथ ही आपात स्थिति में भी मरीज़ों को खून की ज़रुरत होती है। लॉकडाउन की वजह से ब्लड डोनेट करने वालों में कमी आई है। यहां तक की अस्पतालों द्वारा लगाए जा रहे ब्लड डोनेशन कैंप में भी लोग नहीं पहुंच रहे हैं। ऐसे में एक नई समस्या हमारे सामने आकर खड़ी हो गई है। कोरोना से जंग दूसरी बीमारियों के मरीज़ों के लिए बड़ी समस्या है साथ उनके घर वालों की चिंता बढ़ती जा रही है।

READ:  Bangal Election 2021: ममता की जीत के बाद कैसा है सोशल मीडिया रिएक्शन, देखें किसने क्या कहा?

भारत में ब्लड मैनेजमेंट सिस्टम नहीं है जबकी वर्लड हेल्थ ऑर्गेनाईज़ेशन के निर्देशों के मुताबिक हर देश के पास उसकी जनसंख्या के हिसाब से 1 फीसदी की पूर्ती के लिए ब्लड मौजूद होना चाहिए । भारत में जब भी खून की ज़रुरत होती है रिश्तेदार और दोस्तों से ब्लड की व्यवस्था की जाती है। आपको बता दे देश में कई ऐसे मरीज़ हैं जिन्हें 15-16 दिन में खून की ज़रुरत होती है। देश के कई बड़े अस्पताल इस किल्लत को देखते हुए बड़ी सर्जरी की डेट आगे बढ़ा रहे हैं।

देश में हुए लॉकडाउन की वजह से लोग खून देने जाने में हिचकिचा रहे हैं उन्हें डर हैं कहीं उन्हें संक्रमण न हो जाए। ऐसे में एक गंभीर समस्या हमारे सामने आकर खड़ी हो गई है। ग्राउंड रिपोर्ट अपने पाठकों से निवेदन करता है कि अगर उन्हें सोशल मीडिया या कहीं से ब्लड डोनेशन की जानकारी मिलती है तो ज़रुरतमंद की मदद करने ज़रुर जाएं। आखिर यह जंग जान बचाने को तो हम लड़ रहे हैं।

READ:  कर्नाटक: ऑक्सीजन की कमी से 24 कोरोना मरीजों की अस्पताल में मौत

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।