Home » इंदौर : रेमडेसिवीर की कालाबाज़ारी करने वाला गिरोह गिरफ्तार

इंदौर : रेमडेसिवीर की कालाबाज़ारी करने वाला गिरोह गिरफ्तार

रेमडेसिवीर
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रशाशन के कड़ी सख्ती लगाने के बावजूद भी लोग कालाबाज़ारी करने से रुक नहीं रहे है। मध्य प्रदेश के इंदौर से भी इंसानियत को शर्मसार कर देने वली घटना सामने आयी है जहाँ चंद रुपयों के लालच में आ कर कुछ व्यक्ति बाकी लोगों की जान से खिलवाड़ कर रहे हैं। कार्यवाही करते हुए इंदौर पुलिस ने कोरोना के जीवनरक्षक इंजेक्शन रेमडेसिवीर (Remdesivir) और दवाइयों की कालाबाज़ारी करने वाले दो गुटों के 12 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

https://groundreport.in/sana-ramchand-first-hindu-woman-of-pakistan-who-becomes-assistant-commissioner/

कैसे करते थे ये काम ?
एक गैंग अस्पताल में सक्रिय रहती थी, जो की मरीज़ों की मौत के बाद रेमडेसिवीर (Remdesivir) इंजेक्शन को ब्लैक में बेचा करती थी। तो वही दूसरा गुट मरीज़ों की जान बचाने में लगे परिजनों को नकली रेमडेसिवीर खपा देने का काम करता था। इंदौर के विजय नगर पुलिस के द्वारा गिरफ्तार किया गया आरोपियों का ये गुट गुजरात के सूरत में नकली दवा बनाने वाले एक गिरोह से जुड़ा हुआ था, पूछताछ करने पर पता चला की गुजरात के कारोबारी सुनील मिश्र इस गिरोह को चलाता था। इंदौर पुलिस ने कारोबारी सुनील को गिरफ्तार कर लिया है, वह अपने फार्म हाउस में नकली दवाएं बनाया करता था। इन्हे बेचने के लिए उसने करीबन 1200 इंजेक्शन और दवाइयों के डिब्बे इंदौर और जबलपुर के बदमाशों को दिए थे।

READ:  आत्महत्या समस्या का समाधान नहीं है
गिरफ्तार किये गए आरोपी

गैंग के सदस्य धीरज(26) पिता तरुण साजनानी और दिनेश (28) बंसीलाल चौधरी (निवासी अनुराग नगर) को एक हज़ार इंजेक्शन दिया था। इन्हें पहले ही पुलिस ने हिरासत में ले लिया है, इनकी दी हुई जानकारी के तहत पुलिस ने सुनील मिश्रा को गिरफ्तार किया था। एसपी पूर्व आशुतोष बागरी से मिली जानकारी के मुताबिक, दूसरा गुट इंदौर के एसएनजी अस्पताल से जुड़ा था। ये आरोपी सोशल मीडिया का इस्तेमाल करके ज़रूरतमंदों को ररेमडेसिवीर व टॉसीलिजुमैब इंजेक्शन 35 से 40 हज़ार रूपए की कीमत में बेचा करते थे। 6 मई की रात को दो आरोपी आनद(27) और महेश (41) को 2 रेमडेसिवीर के साथ गिरफ्तार किया था। आरोपी आनंद झा एसएनजी अस्पताल में हाउस कीपर का काम करता था।

https://groundreport.in/ipl-suspension-suspended-ipl-in-england/

READ:  Jaipur rape case : बच्ची से दरिंदगी करने वालों को कोर्ट ने सुनाई 20 साल की सजा, 5 दिन में पहुंचाया अपराधियों को जेल के भीतर

यह इंजेक्शन मेदांता, भंडारी और अपोलो अस्पताल में भर्ती मरीज के परिजनों को बेचने जा रहे थे। पुलिस ने एकाएक कर सभी आरोपियों को लीड लेकर गिरफ्तर कर लिया है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।