Home » Black Fungus Symptoms and Treatment: ब्लैक फंगस के लक्षण और उपचार

Black Fungus Symptoms and Treatment: ब्लैक फंगस के लक्षण और उपचार

Black Fungus Mucormycosis Symptoms and Treatment
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Black Fungus Mucormycosis Symptoms and Treatment: आज हम आपको म्यूकोरमायकोसिस या ब्लैक फंगस Mucormycosis or Black Fungal Infection Symptoms and Tretments के बारे में संपूर्ण जानकारी देने जा रहे हैं। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच देश में ब्लैक फंगस कि भी काफी दिक्कतें देखी जा रही है जो लोगों को अपना शिकार बना रही है। यह मध्य प्रदेश, उत्तरप्रदेश, महाराष्ट्र समते देश के अन्य राज्यों में भी ब्लैक फंगस से पीड़ित मरीज देखने को मिले हैं।

Black Fungus Mucormycosis Symptoms and Treatment: इस समस्या को लेकर “इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (ICMR) के मुताबिक” ब्लैक फंगस एक दुर्लभ बीमारी है, जो व्यक्ति के शरीर में काफी तेजी से फैलती है और यह समस्या उन लोगों में ज्यादा देखा गया है, जो लोग कोरोना वायरस से संक्रमित होने से पहले किसी अन्य बीमारी से भी पीड़ित थे या फिर ऐसे लोग जिनकी इम्यूनिटी यानि रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहद कमजोर स्थिति में है। तो आइए आज हम आपको इस बीमारी की एक – एक बारीकी के बारे में जानकारी देते हैं-

घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

क्या है म्यूकोरमायकोसिस या ब्लैक फंगस (Whtat is Mucormycosis or Black Fungal Infection)
ब्लैक फंगस एक ऐसा फंगस संक्रमण है जिसे कोरोना वायरस ट्रिगर करता है। कोविड-19 टास्क फोर्स के एक्सपर्ट्स की माने तो, यह फंगल इंफेक्शन बहुत ही दुर्लभ लेकिन गंभीर होता है । यह ऐसे लोगों में बहुत आसानी से फैल जाता है, जो पहले से किसी ना किसी दूसरी बीमारी से ग्रसित होते हैं। साथी ऐसे लोगों को भी यह बेहद जल्दी प्रभावित करता है जिनका इम्यून सिस्टम कमजोर (weak) होता है। क्योंकि ऐसे लोगों के शरीर में इस प्रकार के होने वाले इंफेक्शन से लड़ने की क्षमता काफी कम होती है.

READ:  'भूल जाइए बिट कॉइन को, राम मन्दिर में निवेश कीजिए, भारी मुनाफा तय है'

कितना खतरनाक है ब्लैक फंगस –
कोरोना वायरस के बढ़ते मामले के बीच ब्लैक फंगस इन्फेशन एक जानलेवा संक्रमण के रूप में उभर कर सामने आ रहा है। डॉक्टरों के अनुसार यदि इस इंफेक्शन का समय रहते इलाज नहीं किया गया तो इस संक्रमण से व्यक्ति की आंखों की रोशनी जाने की अधिक संभावना होती है। इसके अलावा इस संक्रमण से मरीज की मौत तक भी हो सकती है। यह इन्फेक्शन आपके शरीर में साइनस से होते हुए आपकी आंखों को अपना शिकार बनाता है। इसके बाद यह बॉडी में फैलने लगता है। इस इन्फेक्शन को रोकने के लिए डॉक्टर को उस व्यक्ति की सर्जरी करनी पड़ती है। इस सर्जरी में डॉक्टर को व्यक्ति के इन्फेक्टेड आंख या जबड़े का एक ऊपरी हिस्सा निकालना पड़ता है।

ब्लैक फंगस कैसे बनाता है शिकार –
हेल्थ एक्सपर्ट्स की मानें तो, जब हवा में फैले रोगाणुओं के संपर्क में व्यक्ति आ जाता है तो वह व्यक्ति फंगल इंफेक्शन की चपेट में आ सकता है। ब्लैक फंगस प्रभाव मरीज की स्किन पर भी दिखाई दे सकता है। यह फंगल इंफेक्शन आपके स्किन पर चोट, रगड़ या जले हुए हिस्सों से होते हुए ये आपके शरीर में प्रवेश कर सकता है।

मोदी सरकार के 5 बड़े घोटाले, जिनके सबूत मिटाने पर जुटी है सरकार

ब्लैक फंगस के लक्षण ( Black Fungus Mucormycosis Symptoms and Treatment) –

* बुखार आना

* असहनीय सर दर्द होना

* खांसी होना या सांसों का फूलना

* आंखों में लालपन या दर्द होना

* आंख में दर्द होना

* आंखें फूल जाना, एक ही चीज दो यानी डबल दिखाई देना या दिखना बंद हो जाना

* चेहरे के किसी एक हिस्से में दर्द होना, सूजन होना या सुन्न पड़ना

* दांत में दर्द होना, दांत का हिलना , कुछ भी चबाने से दांत में दर्द होना

* उल्टी में या खांसने पर बलगम के साथ खून का आना

किन लोगों के लिए जानलेवा हो सकता है ब्लैक फंगस –
अब आइए जानते हैं कि किन लोगों के लिए ब्लैक फंगस काफी खतरनाक है। ब्लैक फंगस ऐसे लोगों को ज्यादा प्रभावित करता है, जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी बीमारियों से लड़ने की क्षमता (इम्यून सिस्टम) कमजोर होती है। जिन लोगों की इम्युनिटी मजबूत होती है ऐसे लोगों में ब्लैक फंगस का खास खतरा नहीं होता है।

READ:  Supreme Court: वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ (Vinod Dua) को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत, हिमाचल में दर्ज राजद्रोह केस को रद्द किया

ब्लैक फंगस से बचने का तरीका-

* धूल वाली जगहों पर जाने से बचें और मास्क पहनना बिल्कुल ना भूलें।

* मिट्टी, काई या खाद जैसी चीजों के नजदीक जाते वक्त सावधानी बरतनी चाहिए इसके लिए आपको जूते, ग्लव्स, फु स्लीव्स शर्ट और ट्राउजर जैसी चीजें पहननी चाहिए। 

* अपने आसपास साफ-सफाई का विशेष तौर पर ध्यान रखें।

* डायबिटीज पर कंट्रोल, इम्यूनोमॉड्यूलेटिंग ड्रग या स्टेरॉयड का जितना हो सके उतना कम से कम इस्तेमाल करें।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।