Home » ब्लैक फंगस का इतिहास कोरोना से पुराना है, फिर अचानक कैसे फैली ये बीमारी

ब्लैक फंगस का इतिहास कोरोना से पुराना है, फिर अचानक कैसे फैली ये बीमारी

Black Fungus Mucormycosis Symptoms and Treatment
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Black Fungus Disease or mucormycosis/ब्लैक फंगस डिजीज यानी म्यूकोरमायकोसिस: कोरोना महामारी के साथ-साथ लोगों में फैलती नजर आ रही है। माना जा रहा है कि यह कोरोनावायरस के कारण ही हो रही है लेकिन  यह कहना सही नहीं कि कोरोनावायरस के कारण ब्लैक फंगस (Black Fungus Disease or mucormycosis) हुआ है।  म्यूकोरमायकोसिस बहुत ही पुरानी और कम पाई जाने वाली बीमारी है। देश में करीब 50% तक ब्लैक फंगस डिजीज ( (Black Fungus Disease or mucormycosis) ) के केस दर्ज किए जा चुके हैं। ब्लैक फंगस  को पनपने के लिए शुगर और नमी की जरूरत होती है। एक्सपर्ट्स का कहना है ब्लैक फंगस मिट्टी हवा और नमी की वजह से होता है। कोरोना से पहले भी इसके कई कैसे सामने आ चुके हैं। दवाईयों और समय पर उपचार मिलने से ये ठीक हो जाता है। लेकिन कोरोना के चलते पहली बार इतनी तादाद में ब्लैक फंगस के केस सामने आ रहे हैं।

Dr. KK Aggarwal Death: डॉ. केके अग्रवाल का निधन, दोनों टीके लगवाने के बावजूद कोरोना से मौत

यह बीमारी किन लोगों को हो सकती है

  • कोविड-19 रोगियो सांस लेने के लिए ऑक्सीजन मास्क का प्रयोग करते हैं और इस ऑक्सीजन में ह्यूमिडिटीफायर होते हैं जो कि ऑक्सीजन में ह्यूमिडिटी कंट्रोल करने का काम करते हैं और ऑक्सीजन लेते वक्त यह ह्यूमिडिफायर हमारे फेफड़ों में जाते हैं और वहां की  ह्यूमिडिटी बढ़ा देते हैं जिस कारण फेफड़ों में इन्फेक्शन होने के चांस बढ़ जाता है।
  • डायबिटीज के रोगी में शुगर की मात्रा होने से काला फंगस के पनपने की चांस होते हैं।
  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड लेने वाले लोगों में भी इसका संक्रमण हो सकता है। कोविड-19 डिजीज में कॉर्टिकोस्टेरॉइड आपको समर्थन देता है और अगर इसकी डोज को गलत तरह से लिया जाए तो यह इम्यून सिस्टम को कमजोर कर देता है और उससे फंगस होने के चांस बढ़ जाते हैं।
  • इम्यूनोकॉम्प्रोमाइज्ड रोगियों का इम्यून सिस्टम एक स्वस्थ व्यक्ति की तरह कार्य नहीं कर पाता क्योंकि या तो उन्हें कोई ऐसी बीमारी है या फिर वह एड्स या कैंसर का इलाज करते वक्त जो ड्रग्स लेते हैं वह इम्यून सिस्टम को भी कर देती है और इसी कारण फंगस होने के चांस बढ़ जाते हैं।
  • रोगी का साफ-सुथरे जगह ना रहना । मिट्टी के संपर्क में ज्यादा रहना
READ:  100 crore doses of Covid vaccine completed in India

ब्लैक फंगस के लक्षण

  • काला फंगस होने से चेहरे, थोड़ी, गाल, दिमाग, दांत, दाढ़ आदि अंगों पर काले रंग के धब्बे रूपी निशान दिखाई देते हैं जिसमें रक्त के कण होते है और यह निशान खुजली के साथ बढ़ते हुए क्रम में वह दिखाई देते हैं।
  • उल्टी या नाक से निकलते म्यूकस में खून पाया जाना और शरीर के किसी भी एक अंग में जैसे चेहरे की एक तरफ दर्द होना। तेज सिर दर्द होना।

इससे बचने के लिए क्या करें

  • अपना ब्लड शुगर लेवल नापे जिससे पता चलता रहे कि आखिर शरीर में शुगर ज्यादा तो नहीं हो रही।
  • धूप ले सूरज की धूप लेने से शरीर में पानी का भी संतुलन बना रहता है। इम्यूनोस्टिम्युलेंट जोकि न्यू सिस्टम को मजबूत करें ऐसा खाद्य पदार्थ या दवाइयां ले।
  • ऐसी कोई भी शिकायत आने पर डॉक्टर से जरूर संपर्क करें।
READ:  Navratri special 2021: फलाहारी खाने को बनाएं और भी मज़ेदार, सिर्फ 30 मिनट में आसानी से रेडी हो जाती है ये 6 फलाहारी डिश

Corona Medicine 2-Deoxy-D-Glucose DRDO benefits: कोरोना में DRDO की दवा कितनी फायदेमंद?

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।