Home » Black Fungus: अब कोरोना के साथ ‘ब्लैक फंगस’ का भी खतरा, तेजी से बढ़ रहे मामले

Black Fungus: अब कोरोना के साथ ‘ब्लैक फंगस’ का भी खतरा, तेजी से बढ़ रहे मामले

what is CT Scan Phobia to corona know everything about it
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

‘black fungus’ cases increasing rapidly with corona: देश भर में कोरोना वायरस के बढ़ते मामले चिंता का विषय है लेकिन उससे उत्पन्न होने वाले ‘म्यूकोरमाइसिस’ यानी ब्लैक फंगस (black fungus) दोहरी मार से कम नहीं। एनडीटीवी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली के एक प्रतिष्ठित निजी अस्पताल के डॉक्टर कोविड-19 से उत्पन्न ‘म्यूकोरमाइसिस’ मामलों में वृद्धि देख रहे हैं। इस मामले में अस्पताल ने अपने एक बयान में कहा कि, ‘म्यूकोरमाइसिस’ ( black fungus ) कोविड-19 से होने वाला एक फंगल संक्रमण है। इस बीमारी में रोगियों की आंखों की रोशनी जाने, जबड़े और नाक की हड्डी गलने का खतरा रहता है। (‘black fungus’ cases increasing rapidly in corona)

वहीं सर गंगाराम अस्पताल के वरिष्ठ नाक कान गला (ईएनटी) सर्जन डॉक्टर मनीष मुंजाल के मुताबिक, ‘हम कोविड-19 से होने वाले इस खतरनाक फंगल संक्रमण के मामलों में एक बार फिर तेजी देख रहे हैं। उन्होने कहा कि, बीते दो दिन में हमने म्यूकोरमाइसिस से पीड़ित छह रोगियों को भर्ती किया है।

READ:  रोनाल्डो ने कोका-कोला को दिया 30 हजार करोड़ का झटका, जाने वजह

घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

उन्होंने आगे कहा कि, बीते साल इस घातक संक्रमण से मृत्यु दर काफी अधिक रही थी और इससे पीड़ित कई लोगों की आंखों की रोशनी चली गई थी। इसके साथ ही नाक और जबड़े की हड्डी भी गल गई थी।

रिपोर्ट के मुताबिक, ईएनटी स्पेशलिस्ट डॉ.अजय स्वरूप इस मामले में बताया कि COVID-19 के उपचार में स्टेरॉयड का उपयोग इस बात को ध्यान में रखकर किया जाता है कि कई कोरोनोवायरस पीड़ितों को डायबिटीज होती है, जो ब्लैक फंगस की संख्या में वृद्धि का एक कारण हो सकती है।

उन्होंने कहा कि यह इंफेक्शन आमतौर पर उन मरीजों में देखा जाता है, जो कोविड-19 से ठीक हो गए हैं। लेकिन डायबिटीज़, किडनी या दिल की बीमारी या कैंसर जैसी समस्याओं से पीड़ित हैं। उनमें इसका खतरा ज्यादा देखने को मिलता है।

READ:  क्या बंद हो जाएगा WhatsApp? जानिए क्या है गाइडलाइन के नए नियम

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।