Kanpur : भाजपा नेता इंजेक्शन की कालाबाज़ारी में गिरफ्तार !

भाजपा नेता कर रहा था ब्लैक फंगस के इंजेक्शन की कालाबाजारी, पुलिस ने कानपुर से धर दबोचा

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk | Kanpur | BJP Politician arrested in Kanpur | कोरोना के बाद अब ब्लैक फंगस की वजह से हर तरफ अफरा तफरी मची हुई है। ऐसे में कालाबाज़ारी करने वाले इस मौके का पूरे फायदा उठा रहे हैं। उत्तर प्रदेश के कानपुर में भी पुलिस ने एसयूवी कार को पकड़ा और दर्जनों इंजेक्शन बरामद किए। पुलिस की पड़ताल में पता चला है कि यह रैकेट भाजपा नेता द्वारा चलाया जा रहा था। आरोपी प्रकाश मिश्रा यशोदा नगर का निवासी है, और भारतीय जनता युवा मोर्चा में कार्यसमिति का सदस्य भी रह चुका है। उसके सोशल मीडिया अकाउंट पर भाजपा के कई बड़े नेताओ के साथ फोटो है, और वर्ष 2018 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भेजा गया जन्मदिन सन्देश भी।

मास्क नहीं पहना तो हाथ-पैर में ठोक दी कीलें, UP Police सवालों के घेरे में!

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गुरूवार की रात प्रकाश को एम्फोटेरिसिन—बी दवा की तस्करी करते हुए रंगे हाथ पकड़ा गया। एसीपी कर्नलगंज त्रिपुरारी पांडेय ने जानकारी दी कि गुरुवार को पुष्टि हुई थी की कानपूर में नकली इंजेक्शन बेचे जा रहे है। प्रयागराज का मोबाइल नंबर दिया गया। सर्विलांस पर डालने के बाद जानकारी प्राप्त हुई की लोकेशन कानपुर के ग्वालटोली की ही है। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर दो युवक, प्रकाश और उसका दोस्त ज्ञानेश, को एसयूवी सहित अपनी हिरासत में ले लिया।

READ:  Delhi recorded over 1,000 black fungus cases

जब्त हुई गाड़ी पर ‘हाई कोर्ट’ लिखा हुआ है, पड़ताल में पता चला है की वह प्रयागराज के किसी वकील की है। गिरफ़्तारी होने के बाद प्रकाश ने सत्ता का रौब दिखाया, पर पुलिस ने धोखाधड़ी, औ​षधि प्रसाधन सामग्री अधिनियम और नकली दवा को बेचने की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया और शुक्रवार को जेल भेज दिया। पुलिस ने गाड़ी को सीज़ कर दिया है। पुलिस की पूछताछ में पता चला है की ये रैकेट सिर्फ कानपुर ही नहीं बल्कि प्रयागराज, वाराणसी से लेकर यू.पी.के कई ज़िलों में फैला हुआ था।

Godi Media : क्या है गोदी मीडिया? कौन है इसके टॉप पत्रकार?

ग्वालटोली में गिरफ्तार करते वक़्त उसने पुलिस को कहा की उसकी पहचान बड़े नेताओं और पुलिस अधिकारीयों से है पर पुलिस ने उसकी एक ना सुनी और अपनी हिरासत में ले लिया। विधि विज्ञान प्रयोगशाला में तैनात औषधि निरीक्षक डॉ. सीमा सिंह को जांच करने के लिया बुलाया गया। प्राथमिक जांच में ये सभी इंजेक्शन नकली पाए गए। इन्ही इंजेक्शन के कारण वाराणसी में एक व्यक्ति की मौत भी हो गयी।

READ:  सरकार ने जारी की नई गाइडलाइन, बिना दवाई के ठीक हो सकतें है कोरोना मरीज

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

%d bloggers like this: