2nd Phase of Bihar Polls : 17 ज़िलों की 94 सीटों पर इतने करोड़ लोग करेंगे वोटिंग

बिहार ओपिनियन पोल: जानिए कौन बनाएगा बिहार में सरकार?

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

बिहार चुनाव का माहौल जम चुका है, नेता वर्चुअल रैली छोड़ ज़मीनी रैलियां करने लगे हैं। राष्ट्रीय जनता दल की रैलियों में उमड़ती भीड़ से जहां तेजस्वी यादव उत्साहित हैं तो वहीं नीतीश कुमार परेशान। कभी किसी रैली में नीतीश के खिलाफ नारे लगते हैं तो कही तेजस्वी पर चप्पल फेंकी जाती है। बीजेपी को उम्मीद है कि जैसे ही पीएम मोदी चुनाव प्रचार में उतरेंगे माहौल एकतरफा हो जाएगा। बिहार की जनता का मूड इस बार समझना आसान नहीं है। तमाम मीडिया चैनल अपने-अपने ओपिनियन पोल लेकर आ चुके हैं जो नीतीश कुमार की दोबारा सरकार का दावा कर रहे हैं तो साथ ही राजद द्वारा कड़ी टक्कर का अनुमान भी जता रहे हैं। लेकिन जिस तरह से तेजस्वी की रैलियों में जनसैलाब उमड़ रहा है उसको देखकर राजनीतिक पंडित भी परेशान नज़र आ रहे हैं।

ALSO READ:  'वोटकटवा' कहने पर चिराग पासवान का बीजेपी को करारा जवाब!

ALSO READ: निपटाने की नीति पर भाजपा, बिहार चुनाव के बाद नीतीश कुमार का नंबर: संजय राउत

बिहार चुनाव को लेकर उत्सुकता चरम पर है। जैसे-जैसे प्रचार आगे बढ़ेगा यह चुनाव भी नए-नए मोड़ लेगा। अभी तक आए तीन चैनलों के ओपिनियन पोल पर एक नज़र डालते हैं।

बिहार का ओपिनियन पोलकुल सीटें 243, बहुमत 122

आजतक-सीएसडीएस ओपिनियन पोल

133-143

एनडीए

नीतीश कुमार की अगुवाई वाले एनडीए गठबंधन को 38 फीसदी वोट मिल सकते हैं

88-98

महागठबंधन

तेजस्वी यादव के महागठबंधन को 32 फीसदी वोट मिलने की संभावना जताई गई है।

2-6 

एलजेपी

चिराग पासवान को 6 फीसदी वोट मिलता दिख रहा है। 

टाइम्स नाउ और सी वोटर का ओपनियन पोल

76

महागठबंधन

महागठबंधन में राजद को 56 सीटें, कांग्रेस को 15 और लेफ्ट को 5 सीटें मिल सकती हैं। 

एलजेपी

इस ओपिनियन पोल में एलजेपी को ज्यादा सफलता मिलते नहीं दिख रही है।

एबीपी और सी वोटर ओपिनियन पोल

141-161

एनडीए

नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले बिहार एनडीए को करीब 44.8 प्रतिशत वोट मिल सकते हैं। 

64-84

महागठबंधन

राजद वाले महागठबंधन को 33.4 फीसदी वोट मिल सकता है।

13-23 

अन्य

अन्य को 21.8 फीसदी वोट मिलने का अनुमान है।

ALSO READ: Bihar Elections 2020: बिहार में लिंग आधारित हिंसा और महिलाएं

तमाम सर्वे चुनाव प्रचार के चरम पर पहुंचने के पहले किए गए हैं। ओपिनियन पोल से ज्यादा बेहतर तस्वीर मतदान के बाद होने वाले एक्ज़िट पोल की होती है। इसलिए फिलहाल थोड़ा इंतज़ार हमें करना चाहिए। हालांकि ओपिनियन पोल से जनता अपना मन पर असर ज़रुर होता है। और इससे चुनाव का मूड भी सेट हो जाता है। लेकिन यह बिहार का चुनाव है यहां एक बयान पूरा का पूरा चुनाव का रुख बदल देता है। याद है न मोहन भागवत का आरक्षण विरोधी बयान।

ALSO READ:  Bihar Election Results 2020: बहुमत की ओर बढ़ रहा तेजस्वी यादव का काफिला, बुरी तरह पिछड़े नीतीश कुमार

बिहार चुनाव के लिए तीन चरणों में मतदान होगा। पहले चरण का मतदान 28 अक्टूबर, दूसरे चरण का मतदान 03 नवंबर और तीसरे व आखिरी चरण का मतदान 07 नवंबर को होगा। 10 नवंबर को नतीजे आएंगे।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।