Home » बिहार चुनाव : सुशील मोदी बोले-लालू यादव ने मुझे मारने के लिए कराई थी तांत्रिक पूजा

बिहार चुनाव : सुशील मोदी बोले-लालू यादव ने मुझे मारने के लिए कराई थी तांत्रिक पूजा

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

रविवार को बिहार के डिप्टी सीएम सुशील ने राजद प्रमुख लालू प्रसाद पर गंभीर आरोप लगाया है। सुशील कुमार मोदी ने एक ट्वीट किया। इसमें उन्होंने लिखा- लालू यादव ने मुझे मारने के लिए 3 साल पहले तांत्रिक अनुष्ठान करवाया था। उन्हें जनता पर भरोसा नहीं है। यही वजह है कि तंत्र मंत्र और प्रेत साधना कराते हैं।

सुशील कुमार मोदी ने कहा- लालू खुद को बचाने के लिए तंत्र-मंत्र और पशुबलि कराते रहे। इसके बावजूद वे न जेल जाने से बचे, न ही सत्ता बचा पाए। लालू विधानसभा चुनाव के पहले रांची के केली बंगले में जेल मैन्युअल की धज्जी उड़ाते हुए नवमी के दिन तीन बकरों की बलि देने वाले हैं।उन्हें आभास हो चुका है कि हाशिये पर पड़े कुछ दलों से गठबंधन और सिर्फ वादों से पार्टी की नैया पार नहीं लगा सकते। प्रेत साधना भी उनको 14 साल की जेल से बचा नहीं सकी।

READ:  India vs Sri Lanka: लंका फतह की तैयारी में टीम इंडिया, जुलाई में होगा घमासान

रावण की जगह मोदी-अडानी-अंबानी का पुतला दहन, किसान कर रहे कृषि कानून का विरोध

सुशील मोदी ने अपने ट्विटर हैंडल पर कुछ अखबारों की कटिंग शेयर की है। इसमें उन्होंने लालू और उनके अंधविश्वास से जुड़े किस्से शेयर किए हैं। कुछ अखबारों को दिए इंटरव्यू में सुशील मोदी ने कहा- 2009 में पूर्ण सूर्य ग्रहण देखने तारेगना पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जब ग्रहण के समय बिस्कुट खा लिया, तब अंधविश्वासी लालू प्रसाद ने कहा था कि इससे अकाल पड़ेगा, जबकि बिहार में एनडीए शासन के दौरान कृषि पैदावार बढ़ी।

सुशील कुमार मोदी के इस आरोप पर तेजस्वी यादव ने कहा कि ऐसे अजीब बयान पर मैं क्या बोलूं। सुशील मोदी से ऐसी उम्मीद नहीं थी। तेजस्वी ने कहा- सुशील मोदी को बेरोजगारी पर बोलना था। इंडस्ट्री, शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा पर बोलना चाहिए था। 15 साल के दौरान क्या किया, ये बताना चाहिए था। ऐसे मौके पर ऐसे अंधविश्वासी बयान अजीब हैं। कोरोना पॉजिटिव सुशील मोदी अभी पटना एम्स में अपना इलाज करवा रहे हैं।

READ:  Black Fungus in Bhopal: हमीदिया अस्पताल में पांच लोगों की ब्लैक फंगस से मौत

तेजस्वी की तुलना जगनमोहन रेड्डी से क्यों की जा रही है?

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।