Home » Bharat Band 2020 : किसान बिल के विरोध में सड़कों पर ट्रैक्टर लेकर उतरे तेजस्वी यादव

Bharat Band 2020 : किसान बिल के विरोध में सड़कों पर ट्रैक्टर लेकर उतरे तेजस्वी यादव

Bharat Band 2020 : किसान बिल के विरोध में सड़कों पर ट्रैक्टर लेकर उतरे तेजस्वी यादव
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Bharat Band 2020 : मोदी सरकार द्वारा खेती-किसानी को लाभकारी बनाने के मकसद से लाए गए तीन अहम विधेयकों को लेकर पूरे देश में राजनीति गरमा गई है। विधेयक का विरोध संसद के बाद अब सड़कों पर जोर पकड़ने लगा है। भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) समेत विभिन्न किसान संगठनों ने 25 सिंतबर को देशभर में चक्का जाम Bharat Band 2020 करने का एलान किया है।

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए किसान विरोधी कानून, महंगाई, बेरोजगारी आदि मुद्दों को लेकर बिहार बंद के आह्वान पर जाप कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को गांधी सेतु की ओर जाने वाली सड़क को जदुआ के पास जाम कर प्रदर्शन किया।

बिहार में तेजस्वी यादव कृषि विधेयक के विरोध में आज सड़क पर प्रदर्शन कर रहे हैं। तेजस्वी यादव ने कहा कि सीएम नीतीश कुमार सबको कहते हैं कि ज्ञान नहीं है और खुद को बड़का ज्ञानी समझते हैं, लेकिन हम पूछना चाहते हैं कि क्या उन्होंने कृषि विधेयक को पढ़ा भी है या नहीं।

READ:  क्या गोबर से होगा कोरोना का इलाज, Richa Chadda ने ट्विट कर क्या कहा?

Bihar Elections 2020 : बिहार चुनाव की तारीखों का ऐलान, जानिए पूरा शेड्यूल

तेजस्वी ने कहा कि इस बिल ने अन्नदाताओं को तोड़ दिया है। इस बिल की वजह से किसान और गरीब होता जाएगा। इस बिल को हर हाल में सरकार को वापस लेना चाहिए। तेजस्वी यादव ने इस दौरान सीएम नीतीश कुमार पर हमला करते हुए कहा कि एक बार फिर से नीतीश जी ने यू टर्न मार लिया है।

तेजस्वी यादव ने आरोप लगाया कि एनडीए सरकार लगातार गरीब और किसान विरोधी फैसले ले रही है। संख्या बल का इतना गुमान है कि बगैर किसानों, उनके संगठनों और राज्य सरकारों से राय-मशवरा किये ही कृषि क्षेत्र का भी निजीकरण, ठेका प्रथा और कॉर्पोरेटीकरण करने को आतुर है।

READ:  Sana Ramchand: पाकिस्तान की पहली हिन्दू महिला जो बनीं प्रशासनिक अधिकारी

कृषि से जुड़े तीन अहम विधेयकों, कृषक उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सुविधा) विधेयक 2020, कृषक (सशक्तीकरण व संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक 2020 और आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक-2020 को भी संसद की मंजूरी मिल चुकी है। ये तीनों विधेयक कोरोना काल में पांच जून को घोषित तीन अध्यादेशों की जगह लेंगे।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।