संसद से इस नए बैंकिंग क़ानून को मिली मंज़ूरी, बैंक ग्राहकों पर होगा ये असर ?

संसद से इस नए बैंकिंग क़ानून को मिली मंज़ूरी, बैंक ग्राहकों पर होगा ये असर

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

केंद्र सरकार ने एक बड़ा फैसला लेते हुए बैंक ग्राहकों के हितों की रक्षा सुनिश्चित करने के लिए बैंकिंग रेगुलेशन बिल (Banking Regulation Amendment Bill ) को लोकसभा के बाद राज्यसभा मे भी पास करा लिया है ।

सरकार का कहना है कि नए कानून से सहकारी बैंकों (Cooperative Banks) को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के दायरे में लाया जाएगा। इस नए कानून के तहत देश के सहकारी बैंक आरबीआई के सुपरविजन में काम करेंगे। इससे बैंक में लोगों के जमा पैसों की सुरक्षा की जा सकेगी।

इस एक्ट के जरिए RBI के पास यह ताक़त होगी कि वह किसी भी बैंक के पुनर्गठन या विलय का फैसला ले सकते हैं। इससे पहले केंद्र सरकार ने सहकारी बैंकों को रिजर्व बैंक के तहत लाने के लिए जून में एक अध्यादेश जारी किया था। अब नया कानून इस अध्यादेश की जगह लेगा।

Banking Regulation Amendment Bill की कुछ ज़रूरी बातें…

  • बैंकिंग रेग्‍युलेशन एक्‍ट, 1949 में संशोधन का फैसला ग्राहकों के हित में है। अगर अब कोई बैंक डिफॉल्ट करता है तो बैंक में जमा 5 लाख रुपये तक की राशि पूरी तरह से सुरक्षित है। वित्त मंत्री ने एक फरवरी 2020 को पेश बजट में ही इसे 1 लाख से बढ़ाकर 5 लाख रुपये कर दिया था।
  • अब देश के 1,482 अर्बन और 58 मल्टीस्टेट कॉपरेटिव बैंक RBI के तहत आएंगे। इसके अलावा RBI यदि बैंक पर मोरेटोरियम लागू करते हैं तो फिर कॉपरेटिव बैंक कोई लोन जारी नहीं कर सकते और न ही जमा पूंजी का कोई निवेश कर सकते हैं ।
  • डीआईसीजीसी एक्ट, 1961 की धारा 16 (1) के प्रावधानों के तहत, अगर कोई बैंक डूब जाता है या दिवालिया हो जाता है, तो कॉरपोरेशन हर जमाकर्ता को भुगतान करने के लिए जिम्‍मेदार होता है।
  • इसके बाद केवल 5 लाख तक जमा को ही सुरक्षित माना जाएगा। अगर आपके किसी बैंक में एक से अधिक अकाउंट और FD हैं तो भी बैंक के डिफॉल्ट होने या डूबने के बाद 5 लाख रुपये ही मिलने की गारंटी है।
  • अगर कोई बैंक डूब जाता है या दिवालिया हो जाता है तो उसके डिपॉजिटर्स को अधिकतम 5 लाख रुपये मिलेंगे, चाहे उनके खाते में कितनी भी रकम हो डीआईसीजीसी एक्ट, 1961 की धारा 16 (1) के प्रावधानों के तहत, अगर कोई बैंक डूब जाता है या दिवालिया हो जाता है, तो कॉरपोरेशन हर जमाकर्ता को भुगतान करने के लिए जिम्‍मेदार होता है।

What is the difference between Vaccine and Antibody?

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।