Home » Bangalore Riots: NIA की 30 से ज्यादा ठिकानों पर छापेमारी, दंगों की ये ‘अहम कड़ी’ गिरफ्तार

Bangalore Riots: NIA की 30 से ज्यादा ठिकानों पर छापेमारी, दंगों की ये ‘अहम कड़ी’ गिरफ्तार

Bangalore Riots: NIA raids more than 30 places, riots key link sadik ali arrested
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

बेंगलुरू दंगा: बेंगलुरु दंगो (Bangalore Riots) के मामले में NIA (National Investigation Agency) ने गुरूवार को 30 से ज्यादा ठिकानों पर छापेमारी की। एनआईए की इस छापेमारी में दंगे से संबंधित अहम सुराग बरामद किए गए हैं। इसके साथ ही इस मामले के एक अहम साजिशकर्ता सादिक अली को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। सादिक अली एक बैंक के साथ रिकवरी एजेंट के तौर पर काम करता है।

दिल्ली दंगा : गिरफ़्तार छात्रा गुलफिशा फातिमा को जेल अधिकारी दे रहे मानसिक यातना !

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस मामले में एनआईए के एक आला अधिकारी ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय के निर्देश पर एनआईए ने बेंगलुरु में हुई अगस्त 2020 में हुई हिंसा के मामले में मुकदमा दर्ज किया था। इस मामले में आरोप लगाया गया है कि एसडीपीआई और पीएफआई के कार्यकर्ताओं की साजिश के चलते इस दंगे को अंजाम दिया गया था।

READ:  कर्नाटक: ऑक्सीजन की कमी से 24 कोरोना मरीजों की अस्पताल में मौत

इसके बाद उन्होंने बताया कि आज जिन 30 ज्यादा जगहों पर छापेमारी की गई है इसमें हमें कई एयर गन छर्रे, धारदार हथियार, लोहे की छड़ें डिजिटल डिवाइस, डीवीआर और पीएफआई और एसडीपीआई से संबंधित अहम दस्तावेज भी बरामद हुए हैं।

घायल मुस्लिम को हिंदू बताकर भाजपा सांसद अर्जुन सिंह ने सांप्रदायिक दंगा भड़काने का किया प्रयास

एनआईए के मुताबिक इस मामले में एक साजिशकर्ता सादिक अली को भी गिरफ्तार किया गया जो बेंगलुरु का ही रहने वाला है। सादिक अली पर आरोप है कि वह 11 अगस्त 2020 की देर शाम बंगलुरु के केजी हल्ली पुलिस स्टेशन पर हुए हमले में शामिल था। इस हमले के दौरान सार्वजनिक और सरकारी संपत्ति का बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ था। साथ ही दंगाइयों ने थाना परिसर और आसपास के इलाकों में खड़े पुलिस वाहनों तथा अन्य वाहनों को भी नुकसान पहुंचाया था। सादिक इस मामले में दंगे के बाद से ही फरार चल रहा था।

READ:  West Bengal Violence: Mithun Chakraborty ने क्या कहा?

यह दंगा बेंगलुरु के पुलकेशीनगर के विधायक के भतीजे द्वारा एक सोशल कमेंट किए जाने के बाद भड़का था और आरोप है कि सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया के राज्य सचिव मुजम्मिल पाशा और पीएफआई के लोगों द्वारा इनके घरों पर हमला बोला गया तथा अनेक जगहों पर दंगे किए गए। एनआईए को उम्मीद है कि इस मामले में सादिक की गिरफ्तारी एक अहम कड़ी है जिससे पूछताछ के दौरान अनेक खुलासे हो सकते हैं और दंगे की पीछे की पूरी साजिश का खुलासा हो सकता है। फिल्हाल मामले की जांच जारी है।

गुजरात दंगा : सरदारपुरा में 33 लोगों को ज़िंदा जलाने के मामले में दोषी क़रार 14 लोगों को मिली ज़मानत

READ:  Corona Tool Kit: जानलेवा वायरस से आपको बचा सकती हैं ये 10 चीजें

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।