बाबा रामदेव कोरोना दवा पर

दवा बनाकर क्या मैंने कोई गुनाह कर दिया, देशद्रोही जैसा व्यवहार क्यों: बाबा रामदेव

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

बाबा रामदेव ने कोरोना की दवा क्या लांच की उनके जीवन में आफतों का पहाड़ टूट पड़ा। उनकी बनाई दवा पर सवाल खड़े होने लगे। हाईकोर्ट में याचिका दायर हुई तो कई जगह एफआईआर दर्ज की गई। लेकिन बाबा रामदेव अपने दावे से पीछे हटने को तैयार नहीं है। बाबा रामदेव का कहना है कि कोरोनिल को बनाने में उन्होंने सभी पैरामीटर का ध्यान रखा है। आयुष मंत्रालय को सभी दस्तावेज़ सौंपे हैं। कुछ कम्यूनिकेशन गैप की वजह से सारी गलतफहमी की स्थिति बनी।

दरअसल जब बाबा रामदेव कोरोना की दवा लेकर देश के सामने आए तो सरकार के पैरों तले ज़मीन खिसक गई क्योंकि आयुष मंत्रालय ने बाबा रामदेव को इम्यूनिटी बूस्टर बनाने की अनुमति दी थी न कि कोरोना की दवा। इस तरह की दवा को बाज़ार में उतारने से पहले कई तरह के ट्रायल से होकर गुज़रना होता है। जिसके साक्ष्य बाबा रामदेव ने आयुष मंत्रालय को नहीं दिए। अब यह सारा विवाद सरकार और पतंजलि के बीच हुई गलतफहमी की वजह से खड़ा हुआ। बाबा रामदेव दोबारा मीडिया के सामने आए और कहा-


कोरोनिल के क्लीनिकल ट्रायल का डेटा हमने आयुष मंत्रालय क भेजा, आयुष मंत्रालय के सारे अप्रूवल लिए गए। हमने सभी पैरमीटर फॉलो किए। एफआईआर करो, देशद्रोही कह लो या आतंकी कह लो कोई फर्क नहीं पड़ता। उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान में योग के अंदर काम करना गुनाह है। मेरे खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई। दवा बनाकर क्या मैंने कोई गुनाह कर दिया, सत्कार नहीं कर सकते तो तिरस्कार तो मत कीजिए। सिर्फ कोट टाई वाले रिसर्च करेंगे क्या, धोती वाले नहीं कर सकते। अभी तो हमने एक कोरोना के बारे में क्लीनिकल कंट्रोल ट्रायल का डाटा देश के सामने रखा तो एक तूफान सा उठ गया। उन ड्रग माफिया, मल्टीनेशनल कंपनी माफिया, भारतीय और भारतीयता विरोधी ताकतों की जड़ें हिल गईं।

बाबा रामदेव

योग गुरु बाबा रामदेव की ओर से कोरोना के इलाज की दवा कोरोनिल लॉचिंग के मामले में दायर जनहित याचिका पर हाईकोर्ट ने असिस्टेंट सॉलिसिटर जनरल ऑफ इंडिया को नोटिस जारी किया है। इस पर बाबा रामदेव ने मीडिया से कहा जिस तरह से देशद्रोही के खिलाफ मुकदमा दर्ज होते है ऐसे मुकदमे दर्ज हुए ये मानसिकता हमे कहां लेकर जाएगी हम दोनों 35 वर्षो से साथ काम कर रहे है दोनों सामान्य परिवार से आये इसलिये लोगो को मिर्ची लगती है।  पिछले तीन दशकों में करोड़ो लोगो को निरोगी किया है योग सिखाया है। जब अब मंत्रलाय ने भी कहा कि क्लीनिकल ट्रायल किया गया तो लोग तीन दिन में ठीक हो गए, सब अप्रूवल भी हमने सबमिट कर दिए अब जब सारे अप्रूवल लेकर अभी कोरोना के ऊपर ट्रायल हुआ है।

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।