Rural Report: सेहतमंद गांव से स्वस्थ भारत मुमकिन है

Healthy India is possible from a healthy village

Narendra Singh Bisht from Nainital, Uttarakhand | भारत ने जहां 21वी सदी में प्रवेश किया है वहीं ऐसा लगता है कि पहाड़ी राज्य उत्तराखंड के दूरस्थ ग्रामो ने स्वास्थ्य सुविधाओं के मामलें में इसके विपरित 12वी सदी में प्रवेश किया है. राज्य के दूरस्थ इलाकों का धरातलीय सच शर्मसार करता है. यहां के दूर दराज़ क्षेत्रों में ऐसे कई अस्पताल हैं जहां डॉक्टरों … Read more

A School Without Toilets

The Maigri Estate Inter College in Garur block in Bageshwar district has no toilets

Khusbu Bora Pinglo, Garur | Bageshwar, Uttarakhand | Water, sanitation, and hygiene (WASH) play an important role in girls’ education. Lack of water and sanitation facilities often prevents girls from attending schools, leading to an uncertain future. The Maigri Estate Inter College in Garur block in Bageshwar district of Uttarakhand is a well-built government institution … Read more

कब साकार होगा आदर्श गांव का सपना?

Adarsh Gram Yojana Truth

Rural writer Sanjana from Kapkot, Uttarakhand | आदर्श ग्राम की संकल्पना महात्मा गांधी ने आजादी से पहले अपनी किताब “हिन्द स्वराज” में की थी. जिसमें उन्होंने आदर्श गांव की विशेषता बताई थी और उसे मूर्त रूप देने की कार्य योजना की भी चर्चा की थी. गांधी के सपनों का गांव आज तक बन तो नहीं सका लेकिन समय-समय … Read more

अंधविश्वास से जूझ रहा ग्रामीण क्षेत्र

Rural area battling superstition

कुमारी कविता | लमचूला, उत्तराखंड | 21वीं सदी के भारत को विज्ञान का युग कहा जाता है, जहां मंगलयान से लेकर कोरोना के वैक्सीन को कम समय में तैयार करने की क्षमता मौजूद है. लेकिन इसके बावजूद इसी देश में अंधविश्वास भी समानांतर रूप से गहराई से अपनी जड़ें जमाया हुआ है. देश के शहरी क्षेत्रों की … Read more

Rural Report: लड़के लड़कियों में भेदभाव क्यों करता है समाज?

gender discrimination rural report india

Rural Report By  Hema Rawal from Garur, Uttarakhand | केन्द्रीय स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी सर्वेक्षण 2021 के आंकड़ों के अनुसार पहली बार देश में लड़कियों की संख्या लड़कों से अधिक हुई है. सर्वेक्षण के अनुसार प्रति हजार लड़कों पर 1020 लड़कियां हैं. माना यह जा रहा है कि आजादी के बाद यह पहली बार है जब देश में लड़कियों की … Read more

मिथक तोड़कर क्रिकेट में जौहर दिखाती आदिवासी लड़कियां

Tribal Girls playing cricket in Harda MP

Ruby Sarkar, Bhopal, MP | मध्य प्रदेश का हरदा जिला जो नर्मदापुरम का हिस्सा है और शांति और खुशहाली के लिए जाना जाता है. यहां का मुख्य व्यवसाय खेती-किसानी है. यहां की जमीन बहुत ही उपजाऊ मानी जाती है. इसके बावजूद आर्थिक और सामाजिक रूप से यह इलाका अभी भी बहुत पिछड़ा हुआ है. यहां … Read more

Rural Women from Jharkhand Benefit Through Lemon Grass Cultivation

Rural Women from Jharkhand Benefit Through Lemon Grass Cultivation

Amrendra Suman | Dumka, Jharkhand: Rural women from nondescript villages in Jharkhand’s Dumka district are treading on a new, self-reliant path by growing lemongrass along with traditional crops like wheat, paddy, pulses and oilseed. As part of a project called Jharkhand Opportunities for Harnessing Rural Growth (JOHAR) implemented by the Jharkhand State Livelihood Promotion Society … Read more

मेरा भी बने मकान, पुंछ के इस गांव में क्यों नहीं मिला लोगों को PMAY के तहत घर?

Truth of PMAY scheme in Fatehpur Village of Poonch

रेहाना कौसर रेशी, फतेहपुर, पुंछ | कोविड की पहली लहर के दौरान, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने मध्य प्रदेश में एक वर्चुअल माध्यम से PMAY योजना के तहत 175,000 नवनिर्मित घरों का उद्घाटन करते हुए कहा था, “पहले गरीब सरकार के पीछे भागते थे। अब सरकार उन लोगों तक पहुंच रही है। पीएम मोदी ने … Read more

लड़कियों के अधिकार कहां है?

woman rights in india charkha features

निशा दानू | कपकोट, बागेश्वर, उत्तराखंड | हाल ही में संपन्न हुए अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर अपने संदेश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महिला शक्ति को नमन करते हुए महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए अपनी सरकार की प्रतिबद्धता को दोहराया. इस अवसर पर उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार सम्मान और अवसरों पर विशेष ज़ोर … Read more

पुल को तरसता सरहदी गांव अराई मलका

Arai Malka Village in Poonch District facing bridge connectivity problem

रिपोर्ट: रयाज़ अहमद | अराई मलका, पुंछ, जम्मू कश्मीर | शब्बीर अहमद की बेटी के पैर में चोट लगी है, उन्होंने उसका शहर जाकर इलाज करवाया। पुंछ से 20 किलोमीटर की यात्रा कर वो जब अपने गांव अराई मलका (Arai Village) पहुंचे तो उन्हें अपनी बेटी को चारपाई पर लेटाकर घर तक ले जाना पड़ा, … Read more