Home » Asaram Bapu Case: सरकार का कहना- जमानत के बाद बिगड़ सकती है कानून व्यवस्था

Asaram Bapu Case: सरकार का कहना- जमानत के बाद बिगड़ सकती है कानून व्यवस्था

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Asaram Bapu Case: दिल्ली में आसाराम के आश्रम की ही एक नाबालिग लड़की ने 20 अगस्त 2013 को आसाराम बापू (Asaram Bapu Case) के खिलाफ यौन शोषण का आरोप लगाते हुए जीरो एफआईआर दर्ज कराई थी। जिसके बाद से आसाराम बापू (Asaram Bapu) 8 साल से जोधपुर सेंट्रल जेल में सजा काट रहे हैं। इतना ही नहीं गिरफ्तार होने के बाद से आसाराम बापू जेल से बाहर निकलने के लिए कड़ी से कड़ी मशक्कत कर रहें हैं। वह 15 से ज्यादा अदालतों से लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) तक में जमानत के लिए सारे दांव-पेंच खेल चुके हैं। इसके बावजूद आसाराम बापू (Asaram) को जमानत तो क्या सुप्रीम कोर्ट की तरफ से पैरोल तक नहीं मिल रही।

आसाराम बापू (Asaram Bapu) को मिली जमानत तो बिगड़ सकती है कानून व्वयस्था

आपको बता दें कि आसाराम बापू की उम्र 84 साल हो चुकी है। जिसके चलते वह बीमार भी रहते है। इतना ही नहीं उनकी पत्नी भी अस्वस्थ रहती हैं। इसके बावजूद उनके जेल से बाहर निकलने के लिए ये सारे तर्क अदालत में काम नहीं आए। ऐसा कहा जा रहा है कि इसका एक कारण उनके समर्थकों की अंधभक्ति भी हैं। वहीं पुलिस प्रशासन और सरकार को डर है कि यदि आसाराम को जमानत मिलती है, तो कानून व्यवस्था बिगड़ सकती है। जिसके चलते उसे नियंत्रित करना बहुत ही मुश्किल हो जाएगा।

READ:  Delhi riots case: Natasha, Devangana, and Asif Iqbal released

शर्मनाक ! दोस्त की बर्थ-डे पार्टी में गई नाबालिग का 6 लड़कों ने तीन बार किया गैंगरेप

आसाराम बापू की सारी दलीलें हो रहीं फेल

कोरोना होने के बाद आसाराम बापू के पेट की आंतों में रक्तस्राव की समस्या हो गई थी। जिसके इलाज के लिए उन्होंने हरिद्वार में आयुर्वेदिक उपचार लेने के लिए राजस्थान हाईकोर्ट में जमानत याचिका दायर की थी। वहीं सरकार ने आसाराम बापू (Asaram Bapu) की इस याचिका को भी खारिज कर दिया। सरकार को डर है कि यदि आसाराम बापू को जमानत दी जाती है तो कानून व्यवस्था बिगड़ने की संभावना है। जिसके बाद अब आसाराम बापू ने इसके विरुद्ध सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) एसएलपी दायर की है। जिस पर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई होगी।

25 अगस्त 2018 को ट्रायल कोर्ट ने सुनाई थी आसाराम बापू को आजीवन कारावास की सजा

दोषी करार होने के बाद आसाराम बापू को जोधपुर सेंट्रल जेल में रखा गया था। उसके बाद 31 अगस्त 2013 को जोधपुर पुलिस ने मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा से आसाराम बापू को गिरफ्तार किया था। जिसके बाद ट्रायल कोर्ट ने आसाराम बापू को 25 अप्रैल 2018 को दोषी मानते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।

क्या क्या किया उनके भक्तों ने

1. आसाराम बापू के गिरफ्तार होने के बाद उनके भक्तों ने मचाया खूब उत्पात। कोर्ट में रहती थी भक्तों की भीड़

2. जेल से कोर्ट ले जाते समय उनके समर्थक खूब उत्पात मचाते थे । पुलिस को चलानी पड़ी लाठी।

3. मामले से जुड़े गवाहों कि, की गई हत्या।

4. सचिव राहुल सचान पर जोधपुर कोर्ट में हमला हुआ।

5 जमानत के लिए पेश किए गए जाली दस्तावेज

READ:  दलित उत्पीड़न की 10 दर्दनाक दास्तान, देश फैले जातिवाद को चीख-चीख कर बयां करती है

सुप्रीम कोर्ट में पेश एसएलपी पर आज होगी सुनवाई

आपको बता दें कि आसाराम बापू व उनके बेटे नारायण साईं ने हाईकोर्ट में पेश की गई अर्जियों को वापस ले लिया है। दो महीने की अंतरिम जमानत को लेकर कोर्ट आज मंगलवार को सुनवाई करेगा। वहीं इससे पहले राजस्थान हाईकोर्ट 21 मई को दायर की गई अर्जी को खारिज कर चुका था। इसके विरुद्ध सुप्रीम कोर्ट में यह एसएलपी दायर की गई थी।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.