anoop madal

Anoop Mandal: अब जैन धर्म को बताया जा रहा हिन्दू धर्म के लिए ख़तरा

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पिछले कुछ दिनों से अनूप मंडल (Anoop Mandal) नाम का एक संगठन और उसके जैसे कई लोग रैलियां निकाल रहें हैं, उन रैलियों से जुड़े लोग जैन धर्म के खिलाफ नारे लगा रहे हैं। अब उनका कहना है कि जैन धर्म से हिन्दू धर्म को भी खतरा है। Anoop Mandal ने कोरोना बीमारी का कारण भी जैन धर्म को बताया है। ये लोग नारे लगा रहे हैं कि “कोरोना को जैन बनियों ने लाया है”, “कोरोना को जैन बनियों ने लाया है”।

अनूप मंडल ने जलाया जैन मुनि का पुतला

दुनिया भर में तानाशाही जब जब बढ़ती है और अलग-अलग समुदाय के लोगों पर हमले बढ़ते हैं तो अमेरिका के हॉलोकॉस्ट म्यूज़ियम में लिखी गई कुछ पंक्तियों को याद किया जाता है। जिसमें कहा गया है कि कैसे हम अलग-अलग समुदाय पर हो रहे हमलों को चुपचाप देखते रहते हैं क्योंकि हम उनमें से एक नहीं है। लेकिन एक समय आता है जब आप पर भी हमले होने लगते हैं और आपकी आवाज़ उठाने के लिए कोई बचता नहीं है।

ALSO READ THIS STORY IN ENGLISH

First they came for the socialists, and I did not speak out—
     Because I was not a socialist.

Then they came for the trade unionists, and I did not speak out—
     Because I was not a trade unionist.

Then they came for the Jews, and I did not speak out—
     Because I was not a Jew.

Then they came for me—and there was no one left to speak for me.

धर्म के नाम पर हमले कबतक?

भारत में पिछले कुछ समय में अल्पसंख्यकों पर हमले बढ़ें हैं, चाहे वो फिर मुस्लिम समुदाय हो, चर्चों पर पत्थरबाज़ी हो या जैनों की मूर्तियों का विरोध हो। लेकिन अचरज की बात यह है कि ये अलग अलग समुदाय एक दूसरे पर हो रहे हमलों पर चुप बैठे रहते हैं और केवल तभी अपनी आवाज़ उंची करते हैं, जब खुद इनपर आंच आती है।

यह पहली बार नहीं है जब जैन धर्म का विरोध किया गया हो। इससे पहले एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने यूपी के बढ़ौत में दिगंबर जैन कॉलेज में लगी श्रुत देवी की मूर्ती को लेकर हंगामा किया था। उनका कहना था कि कॉलेज में जैन देवी की जगह हिंदू देवी सरस्वती की मूर्ती लगाई जानी चाहिए। इसको लेकर तोड़फोड़ की गई थी।

READ:  पांच नाबालिगों और 18 साल के युवक ने किया 10 साल की बच्ची से दुष्कर्म!

भारत में लगातार एक धर्म विशेष का प्रभुत्व बढ़ रहा है और खुद को इस धर्म का कार्यकर्ता बताने वाले दूसरे धर्म के लोगों पर हमले बोल रहे हैं। दिल्ली के एक मंदिर में साई बाबा की मूर्ती को केवल इस लिए तोड़ दिया गया क्योंकि कुछ धर्म के ठेकेदारों का मानना था कि साई बाब हिंदू नहीं बल्कि एक ढोंगी था।

भारत का संविधान अपने सेक्यूलर ढांचे के तरत हर पंथ संप्रदाय को अपने धर्म को मानने की आज़ादी देता है। लेकिन पिछले कुछ समय में धार्मिक कट्टरता बढ़ी है जिसका नुकसान सभी को उठाना पड़ रहा है। इसके पीछे किन राजनीतिक शक्तियों का हाथ है इसका पता लगाया जाना चाहिए ।

कौन है अनूप मंडल?

अनूप मंडल एक जैन विरोधी संगठन है। यह संगठन राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में कार्य करता है। इस संगठन को बनाने का मुख्य उद्देश्य जैन भिक्षुओं और ननों के खिलाफ लोगों को भड़काना है। ये उपदेश देते हैं कि इस दुनिया में भूकंप और ग्लोबल वार्मिंग के पीछे जैन भिक्षु ही कारण है। अब कोरोना महामारी के पीछे भी ये लोग जैन साधू संतो को ज़िम्मेदार बता रहे हैं। यह मंडल कहता है कि जैन धर्म के लोग राक्षस प्रवत्ति के है। जैन लोग काला जादू करते हैं। अनूप मंडल का यह भी कहना है कि बरमुंडा ट्राइएंगल में जैन लोगों की एक नगरी है जिसके पीछे वो अपनी तांत्रिक क्रिया करते हैं। जैन महात्मा बारिश होने से रोक देते हैं।ये न सिर्फ विरोध करते हैं बल्कि हिंसा के साधनों का भी उपयोग कर रहे हैं। जैन समुदाय का दावा है कि साधु संतो पर हो रहे हमले के पीछे भी इन्हीं लोगों का हाथ है।

किस आधार पर यह ऐसी बातें कहते है

अनूप मंडल के अनोपदास ने 110 साल पहले ‘जगतितकर्णी’ नाम की एक किताब लिखी थी। जिसमें उन्होंने जैन कैसे राक्षस हैं, वो क्या करते हैं, कैसे करते हैं इन सब के बारे में लिखा गया था। सरकार ने पहले ही इस किताब को बैन कर रखा है। इसी किताब को पढ़कर ये लोग अब जैन और हिंदू धर्म के खिलाफ गाँव के लोगों को भड़का रहे हैं।

READ:  नया डेल्टा प्लस वेरिएंट और भी ज्यादा खतरनाक, कभी भी आ सकती है कोविड कि तीसरी लहर

500 से भी ज्यादा साधुओं की हुई हत्या

जैन धर्म के लोगों का दावा है कि अनूप मंडल पिछले कुछ सालों में 500 से भी ज्यादा साधुओं और साध्वियों की हत्या कर चुका है। ऐसी कई घटनाएं भी सामने आई हैं जहां ये अनपढ़ ग्रामीण लोगों के दिमाग में जैन भिक्षुओं को पत्थरों से मारने के लिए जहर भर रहे हैं और उन्हें उकसा रहे हैं।

अब तक कार्रवाई क्यों नहीं?

जैन धर्म के लोग सोशल मीडिया पर लगातार इस संगठन पर कार्रवाई की अपील कर रहे हैं लेकिन अभी तक इसका कोई ठोस हल नहीं निकला है। बीजेपी के वरिष्ठ नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखकर अनोप मंडल के सदस्यों पर कार्यवाही करने की मांग करी है। उन्होंने लिखा कि जैन समाज के लोगों ने अपने क्षेत्र के लोगों और गांव में जितनी मदद की है इसके लिये उनके सेवा कार्यों को याद किया जायेगा।

Disclaimer: The opinions expressed within this article are the personal opinions of the author. The facts and opinions appearing in the article do not reflect the views of Ground Report and Ground Report does not assume any responsibility or liability for the same.

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

%d bloggers like this: