Home » Amphotericin-B Injection for Black Fungus: ब्लैक फंगस के इलाज में कारगार साबित हुआ Amphotericin-B इंजेक्शन

Amphotericin-B Injection for Black Fungus: ब्लैक फंगस के इलाज में कारगार साबित हुआ Amphotericin-B इंजेक्शन

Amphotericin-B injection for black fungus
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Amphotericin-B Injection for Black Fungus: कोरोना महामारी के बाद ब्लैक फंगस के मामले भी तेजी से बढ़ते जा रहें हैं। ब्लैक फंगस के अलावा वाइट और येलो फंगस का भी खतरा मंडरा रहा है। जिसकी वजह से लोग अपनी आँखों की रोशनी खो दी रहे हैं, तो कहीं बहुत से लोगों को अपनी जान गवानी पड़ रही है। देश में ब्लैक फंगस के मामले बढ़ने के साथ Amphotericin इंजेक्शन (Amphotericin-B Injection for Black Fungus) की मांग भी बढ़ती जा रही है।

क्या है Amphotericin-B इंजेक्शन?

Amphoteric-B इन्जेक्शन को एबीसोम इंजेक्शन भी कहते हैं। यह एक एंटीफंगल दवा है जो गंभीर फंगल इंफेक्शन के इलाज में इस्तेमाल की जाती है। इससे फंगस की ग्रोथ रुक जाती है और संक्रमण का खतरा भी खत्म हो जाता है। इसे नेकस्टार फार्मास्युटिकल ने डेवेलप किया था जिसे 1999 में गिलीड साइंसेज ने खरीद लिया। इस इंजेक्शन के कई साइडइफेक्ट भी है।

Black Fungus in Bhopal: हमीदिया अस्पताल में पांच लोगों की ब्लैक फंगस से मौत

ब्लैक फंगस में कब दिया जाता है ये इंजेक्शन

ब्लैक फंगस के मरीज को यह इंजेक्शन 15 से 20 तक रोज़ दिया जाता है। जब मरीज को हल्की भी परेशानी हो उसे तुरंत अपने नजदीकी डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। देरी होने पर मरीज की जान भी जा सकती है। प्रति मरीज को एक खुराक के लिए कम से कम 42 शीशियों की जरुरत पड़ती है।

READ:  What is Roches antibody cocktail?

ये इंजेक्शन किन बीमारियों में इस्तेमाल होता है

ब्लैक फंगस (म्यूकोमाइकोसिस) के अलावा कालाजार( Black Fever) एसपरजिलियासिस, ब्लास्टिमेकोसिस, कैडिडियासिस, क्रिप्टोकोसिस जैसे कई फंगस इंफेक्शन का इलाज भी Amphotericin B के जरिए होता है।

Black Fungus Symptoms and Treatment: ब्लैक फंगस के लक्षण और उपचार

कौन सी कंपनी का कितने में मिलेगा इंजेक्शन

यह इंजेक्शन भारत सीरम एंड वैक्सीन लिमिटेड, सन फार्मासूटिकल इंडस्ट्रीज लिमिटेड 4,739.30 रुपए में, वीएचपी फार्मा प्राइवेट लिमिटेड 549 रुपए में, ऐबट हेल्थ केअर सोलुशन प्राइवेट लिमिटेड 3,563 रुपए में, पनेसिया बॉयोटेक लिमिटेड 7,142.86 रुपए में इंजेक्शन बेचती हैं। अन्य कंपनियों का मार्केट में 50mg इंजेक्शन का प्राइस 150 रुपए से 8000 रुपए तक का है।

मार्किट में शार्टेज क्यों है

हर दिन देश में ब्लैक फंगस के लाखों मामले सामने आ रहें हैं। इसी बीच amphoteric इंजेक्शन की बहुत जगह कालाबाजारी भी हो रही है। पहले ब्लैक फंगस के मामले काम थे इसलिए इस इंजेक्शन का उत्पादन भी कम हो रहा था। अब सरकार ने हैंडहोल्डिंग के बाद सभी निर्माताओं को amphoteric इंजेक्शन का उत्पादन बढ़ाने की लिए बोला है।

राज्यों को amphoteric इंजेक्शन का आंवटन कैसे किया जाएगा

केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा ने बताया है कि राज्यों को एम्फोटेरिसिन-बी वहां की रिपोर्ट किए गए म्यूकोरमाइकोसिस (ब्लैक फंगस) के मामलों की संख्या के आधार पर बाँटा जाएगा। केंद्र ने यह भी घोषणा की है कि देश में ज्यादा मात्रा में दवा का उत्पादन करने के लिए कुछ और कंपनियों को भी मंजूरी दे दी गई है। विदेशी निर्माताओं से भी एम्फोटेरिसिन बी के आयात के लिए बात की जा रही है। केंद्र ने कहा है कि 5 अतिरिक्त फर्में अब 6 अन्य कंपनियों में शामिल होंगी, जो पहले से इस दवा का उत्पादन कर रही हैं। इसके अलावा, भारतीय कंपनियों ने एम्फोटेरिसिन-बी की 6 लाख शीशियों के आयात का भी ऑर्डर दिया है।

READ:  ब्लैक फंगस पर सरकार की एडवाइजरी क्या कहती है?

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।