alwar gangrape case, rajasthan, rajasthan police, cm ashok gehlot, gangrape

अलवर दलित महिला से गैंगरेप : लापरवाही बरतने पर SP का ट्रांसफर, TI सहित अन्य 5 पुलिस कर्मचारियों पर भी गिरी गाज

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली, 8 मई। अलवर गैंगरेप मामले में तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि दो आरोपी अब भी फरार हैं। वहीं इस मामले मे लापरवाही बरतने वाले पुलिस अधिकारियों पर गाज गिरी है। मामले सामने आने के बाद राजस्थान सरकार की ओर से की गई कार्रवाई में अलवर एसपी राजीव पचार को हटा दिया गया है जबकि थानाधिकारी को निलंबित करने के साथ ही चार अन्य पुलिस कर्मियों को लाइन अटैच किया गया है।

इससे पहले पीड़िता के पति ने इस मामले में में पुलिस के आला अधिकारियों से आरोपियों के खिलाफ कार्यवाई करने की गुहार लगाई थी लेकिन पुलिस ने मामले में लापरवाही बरतते हुए चुनाव सर पर होने की बात कहते हुए मामले को नजरअंदाज कर दिया था। इस बीच आरोपियों ने इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया।

बता दें कि बीती 26 अप्रैल को 5 लोगों ने अपनी मोटरसाइकिल से गुजर रहे पति-पत्नी को रास्ते में रोक उन्हें सुनसान इलाके में ले गए, उनसे मारपीट की और पति के सामने पत्नी का गैंगरप कर वीडियो बनाकर वायरल कर दिया।

ये मामला तब सामने आया जब वीडियो के आधार पर आरोपी पति-पत्नि को ब्लेकमेल करने लगे। पहली बार ब्लेकमेल करने पर उन्होंने पैसे दे दिये लेकिन दुबारा ब्लेकमेल करने पर उन्होंने पुलिस में मामला दर्ज करवाया। जिसके बाद होश उड़ा देने वाला ये मामला सामने आया है। 

पीड़िता की आपबीती –
दलित समुदाय से आने वाली पीड़िता का कहना है कि वह अपने पति के साथ ललवाड़ी गांव से तालवृक्ष जा रहे थे। रास्ते में पांच बदमाशों ने उनकी बाइक रोकी। वो हमें खींचकर पास के रेत के टीले पर ले गए और वहां उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। साथ ही घटना का वीडियो भी बनाया।

इसके बाद पीड़िता ने कहा, आरोपियों ने वीडियो वायरल करने की धमकी देकर उन्हें ब्लैकमेल किया और उनसे पैसे मांगे। हमने एक बार तो पैसे दे दिए, लेकिन जब दूसरी बार पैसे की मांग की, तब वे पुलिस के पास गए।