Home » क्या मौसम में बदलाव के बाद खत्म हो जाएगा कोरोनावायरस?

क्या मौसम में बदलाव के बाद खत्म हो जाएगा कोरोनावायरस?

इंदौर के ज्वैलरी शोरुम में 31 लोग कोरोना संक्रमित
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ग्राउंड रिपोर्ट । न्यूज़ डेस्क

अक्सर यह देखा गया है कि सांस संबंधित फ्लू सीज़नल बीमारियां होती हैं। आमूमन सांस संबंधित यह बीमारियां शीतऋतु (winter) में ज़्यादा फैलती हैं। उसके बाद वसंत और ग्रीष्म ऋतु (summer) में इसका प्रभाव कम हो जाता है। चीन से दुनियाभर में फैले कोरोनावायरस (coronavirus) के लिए भी वैज्ञानिक ऐसा ही अनुमान लगा रहे हैं। लेकिन अभी इसकी पुष्टि नहीं की जा सकी है। हमने यह देखा है कि पिछले कुछ वर्षों में फैले स्वाईन फ्लू, मर्स और सार्स जैसी बीमारियों ने भी शीत ऋतु में ही विकराल रुप अपनाया था। गरमी में कोरोनावायरस का प्रभाव कम हो जाएगा यह कहना अभी ठीक नहीं होगा क्योंकि कोरोनावायरस कैसे और क्यों फैल रहा है इस पर रिसर्च जारी है लेकिन इसपर कोई सफलता फिलहाल नहीं मिली है।

कोरोना के 60 हज़ार से अधिक मामले

आपको बता दें कि इस समय कोरोनावायरस के दुनियाभर में 60 हज़ार से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। अकेले चीन में इस बीमारी से 1500 से ज़्यादा जानें जा चुकी है। अभी तक इस वायरस से लड़ने के लिए कोई वैक्सीन नहीं बनाई जा सकी है। कोरोना की दहशत ने पूरी दुनिया को अपनी ज़द में ले लिया है। चीन का वुहान शहर जो कभी हंसता खेलता शहर हुआ करता था वह अब एक भूतिया शहर में तब्दील हो चुका है जहां लोगों ने सड़क पर निकलना बंद कर दिया है, कोरोना के डर ने उन्हें घर में कैद होने को मजबूर कर दिया है।

किस देश में कितने मामले?

चीन: 63,862
थाईलैंड: 33
जापान: 29 ( 200 मरीज़ एक जहाज़ में हैं जिसे तट पर ही रोक दिया गया है)
सिंगापुर: 67
हांगकांग: 56
दक्षिण कोरिया: 28
ताईवान: 18
ऑस्ट्रेलिया: 15
मलेशिया: 19
जर्मनी: 16
वियतनाम: 16
मकाऊ: 10
अमेरिका: 15
फ्रांस: 11
यूएई: 8
कनाडा: 7
इटली: 3
रुस: 2
यूके: 9
फिलीपिंस: 3
कंबोडिया: 1
भारत: 3
बेल्जीयम: 1
फिनलैंड: 1
नेपाल: 1
स्पेन: 2
श्रीलंका: 1
स्वीडन: 1

वुहान शहर युद्ध क्षेत्र में तब्दील

चीन के हुबेई प्रांत से इस वायरस की उत्पत्ती हुई। सबसे अधिक मामले भी इसी प्रांत में सामने आए हैं। चीन में इस वायरस के करीब 64 हज़ार 456 मामले सामने आ चुके हैं। वुहान शहर में इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए पूरे शहर को अन्य शहरों से काट दिया गया है। आने जाने वालों पर पूरी नज़र रखी जा रही है। जिन लोगों में कोरोना के लक्षण पाए जा रहे हैं उन्हें आईसोलेशन कैंप में रखा जा रहा है। मैडिकल ऑफिसर घर घर जाकर मरीज़ों की जांच कर रहे हैं। वुहान इस समय युद्धक्षेत्र में तब्दील हो चुका है जहां मेडिकल ऑफिसर और स्वास्थ्य कर्मी सैनिकों की भूमिका निभा रहे हैं। 1716 स्वास्थ्य कर्मी भी इस वायरस की चपेट में आ चुके हैं जिसमें 1502 केस केवल हुबेई प्रांत में हैं, इसमें 6 स्वास्थ्य कर्मी अपनी जान गवां चुके है।

READ:  Migrant Construction Workers and Covid-19 Pandemic

क्या है कोरोनावायरस?

NEW CORONA VIRUS
NEW CORONA VIRUS IMAGE

कोरोनावायरस असल में एक ऐसे किस्म का वायरस है जिससे श्वांस संबंधित संक्रमण होता है जिससे मरीज़ को सांस लेने में तकलीफ, सर्दी-ज़ुखाम और सरदर्द जैसी समस्या होती है। कई मामलों में निमोनिया और ब्रोंकाईटिस जैसी समस्या यह वायरस खड़ी कर देता है। यह वायरस अधिकतर कमज़ोर इम्यून सिस्टम वाले मरीज़ों के लिए जानलेवा साबित होता है। जिन लोगों ने इस वायरस के संक्रमण से जान गंवाई उनकी उम्र 60 वर्ष से अधिक थी या वे पहले से कई दूसरी बीमारियों से पीड़ित थे।

चमगादड़ से नहीं फैला कोरोनावायरस

कोरोनावायरस मानव शरीर में कैसे पहुंचा इसको लेकर अभी कोई स्पष्ट जानकारी तो नहीं है लेकन यह माना जा रहा है कि वुहान शहर के हुआनान सीफूड मार्केट से यह बीमारी लोगों तक पहुंची। पहले कहा जा रहा था कि यह बीमारी चमगादड़ से लोगों में फैली लेकिन हुआनान के बाज़ार में चमगादड़ नहीं बेचे जाते इसलिए एक खास तरह के सांप से यह बीमारी लोगों तक पहुंची है इस पर रिसर्च की जा रही है।

चीन में कोरोना संक्रमित लोगों को सरकार ने मारने का आदेश नहीं दिया है

सोशल मीडिया पर कई ऐसे वीडियो और पोस्ट साझा किये जा रहे हैं जिसमें कहा जा रहा है कि चीन सरकार ने कोरोना को रोकने के लिए 80 हज़ार लोगों को मारने का आदेश दे दिया है। जबकि यह सच नहीं हैं ऐसा कोई आदेश नहीं दिया गया है। चीन सरकार अपने लोगों को बखूबी खयाल रख रही है साथ ही जो वीडियो भारत में वायरलकिये जा रहे हैं उनका सच आप ऑल्ट न्यूज़ पर पढ़ सकते हैं।

कैसे फैलता है कोरोनावायरस?

अभी इस बात पर रिसर्च जारी है कि कोरोनावायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में कैसे पहुंचता है। फिलहाल यह माना जा रहा है कि SARS-COV2 संक्रमित कफ, बलगम के संपर्क में आने से फैलता है। क्या यह वायरस छूने से फैलता है या नहीं अभी इसपर संशय जारी है। चीन में संक्रमित लोगों को ही मास्क पहनने की हिदायत दी गई है।

क्या यह महामारी का रुप ले सकता है?

अगर कोरोनावायरस इंसानों को संक्रमित करने के बाद इंसानों के अंदर फलने फूलने लगा तो यह महामारी का रुप ले लेगा। अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि यह इंसानों से इंसानों में कितनी तेज़ी से फैलता है।

READ:  जिग्नेश मेवानी ने किन कारणों से जॉइन नहीं की कांग्रेस?

सार्स और मर्स से कितना अलग है कोरोना?

सार्स वायरस ने दुनियाभर में कुल 774 जानें ली थी। मर्स और सार्स दोनों ही वायरस इंसानों के लिए जानलेवा साबित हुए थे। मर्स वायरस संक्रमित ऊंट को छूने और उसके दूध और मीट के इस्तेमाल से इंसानों में फैला था। पहली बार मर्स 2012 में साउदी अरब में फैला था। सार्स 2002 में दक्षिणी चीन में फैला था जो कि संक्रमित चमगादड़ से इंनानों में आया। सार्स ने 10 में से 1 संक्रमित व्यक्ति की जान ली। कोरोनावायरस भी जानवर से ही इंसान में आया लेकिन अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है कि किस जानवर से यह इंसानों में फैला और इस वायरस से संक्रमित होने के बाद जान गंवाने वाले लोगों की संख्या मर्स और सार्स से ज्यादा है।

क्या हैं कोरोना वायरस के लक्षण और कैसे इससे बचा जा सकता है?

कोरोना वायरस के आम लक्षण बुखार, बलगम, सांस लेने में दिक्कत हैं। वायरस के संपर्क में आने के 2 से 14 दिन के भीतर इसके लक्षण दिखाई देने लगते हैं। इस बीमारी के लिए फिलहाल कोई वैक्सीन मौजूद नहीं है। अमेरिकी नेशनल हेल्थ इंस्टीट्यूट इसपर काम कर रहा है। डॉक्टर पीड़ितों का इलाज आम फ्लू के आधार पर ही कर रहे हैं साथ ही आराम करने की सलाह दे रहे हैं। इस वायरस से बचने के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी पीने की सलाह दी जा रही है। गर्म पानी से नहाने से थोड़ा आराम मिल सकता है। बार-बार हाथ धोने, हाथों से आंख और नाक को न छूने की सलाह दी गई है।

आप ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@gmail.com पर मेल कर सकते हैं।