Delhi Election Results 2020: दिल्ली में आप की प्रचंड जीत, तीसरी बार मुख्यमंत्री बनेंगे केजरीवाल

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

न्यूज़ डेस्क, नई दिल्ली

दिल्ली विधानसभा चुनाव में एक बार फिर से आम आदमी पार्टी (आप) ने बहुमत हासिल किया है. वहीं इस जीत पर दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि भाजपा ने नफरत की राजनीति करने की कोशिश की लेकिन दिल्ली की जनता ने ऐसी सरकार चुनी जो लोगों के लिए काम करती है।

आइये देखते हैं दिनभर दिल्ली चुनाव में चर्चा का पूरा निचोड़

निर्वाचन आयोग के ताजा रुझान के मुताबिक 70 निर्वाचन क्षेत्रों के प्राप्त रुझानों के अनुसार आप 63 और भाजपा सात सीटों पर आगे है. वहीं उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया पटपड़गंज सीट पर और राजेंद्र नगर सीट से राघव चढ्ढा जीत गए हैं. सीएए के विरोध प्रदर्शन का केंद्र बने शाहीन बाग वाली ओखला सीट पर भी आम आदमी पार्टी के अमानतुल्लाह खान ने बड़े अंतर से जीत दर्ज की है.

70 विधानसभा सीटों के लिए 8 फरवरी को 62.59% वोट डाले गए थे. भाजपा 22 साल और कांग्रेस 7 साल से सत्ता से दूर है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल तीसरी बार सीएम बनने जा रहे हैं. वे पहली बार 2013 में 48 दिन इस पद पर रहे, फिर इस्तीफा दे दिया था. उन्होंने दूसरी बार 14 फरवरी 2015 को सत्ता संभाली थी.

यह भी पढ़े : BJP का ‘हिन्दू-मुस्लिम’ एजेंडा फेल, AAP के इस मुस्लिम उम्मीदवार को शाहीन बाग से मिले झोली भर के वोट

2 साल में एनडीए ने गवांए 8 राज्य

भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए पिछले दो साल में आठ राज्यों में चुनाव हार चुकी है. दिल्ली समेत 12 राज्यों में अभी भी भाजपा विरोधी दलों की सरकारें हैं. एनडीए के पास 16 राज्यों में ही सरकार है। इन राज्यों में 42% आबादी रहती है.
दिल्ली विधानसभा चुनावों का मुद्दा बने शाहीन बाग वाली ओखला विधानसभा ने इस बार एक बड़ा रिकॉर्ड कायम किया है. आम आदमी पार्टी (AAP) के चर्चित उम्मीदवार अमानतुल्लाह खान ने 77 हजार से अधिक वोटों से जीत हासिल की है. 90 हजार से अधिक वोट पाकर उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार को करारी शिकस्त दी है. ऐसा दावा किया जा रहा है कि दिल्ली के विधानसभा चुनाव 2020 की यह सबसे बड़ी जीत है.

ALSO READ:  दिल्ली में 'APP' को पूर्ण बहुमत! सर्वे

वहीं दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के लगातार तीसरी बार खराब प्रदर्शन के चलते खाता भी नहीं खोल सकी. मंगलवार को हुई मतगणना में एक बार फिर न सिर्फ कांग्रेस पार्टी का सूपड़ा साफ हो गया, बल्कि इसके 67 उम्मीदवारों की जमानत भी जब्त हो गई है. मिली जानकारी के मुताबिक, दिल्ली की 70 सीटों में से 67 सीटों पर कांग्रेस के प्रत्याशियों की ज़मानत ज़ब्त हुई है. पार्टी के सिर्फ 3 उम्मीदवार ही अपनी जमानत बचा पाए हैं, जिनमें बादली से देवेन्द्र यादव, कस्तूरबा नगर से कांग्रेस के उम्मीदवार अभिषेक दत्त और गांधी नगर से अरविन्दर सिंह लवली शामिल है.

यह भी पढ़े : Delhi Elections: मनोज तिवारी का 48 सीटों पर जीत का दावा हुआ फेल, ली हार की ज़िम्मेदारी

मोदी-शाह,नड्डा समेत 40 स्टार प्रचारक, 250 सांसद, 6 सीएम भी भाजपा को जिता न पाए

दिल्ली विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने दो और गृहमंत्री अमित शाह ने 48 रैली-रोड शो से 47 विधानसभा कवर कीं. अमित शाह ने 23 जनवरी से प्रचार शुरू किया, जबकि मोदी ने 3 और 4 फरवरी को रैली की. मोदी-शाह ने अपनी रैलियों और रोड शो के जरिए जिन 49 विधानसभा सीटों को कवर किया. मोदी दो विधानसभाओं तक पहुंचे, लेकिन भाजपा को एक पर ही बढ़त। इस तरह से मोदी-शाह का स्ट्राइक रेट 20% रहा. पार्टी हाईकमान के निर्देश पर लोकसभा और राज्यसभा के करीब 250 से ज्यादा सांसद दिल्ली में गली गली में चुनाव प्रचार करते नजर आए। इसके बाद भी दिल्ली में भाजपा का सूखा खत्म नहीं हुआ.

ALSO READ:  Digital lockdown: The untold story of Kashmir’s longest internet shutdown

वहीं, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 49 रैलियां-रोड शो कर 44 विधानसभा कवर कीं, इनमें से 35 सीटों पर आम आदमी पार्टी (आप) आगे चल रही है. मोदी-शाह की तुलना में केजरीवाल का स्ट्राइक रेट 80% रहा. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अकेले दो और प्रियंका के साथ मिलकर दो रैलियां कीं यानी कुल चार विधानसभाएं कवर कीं, लेकिन इनमें से एक भी सीट पर कांग्रेस को बढ़त मिलती नहीं दिख रही है.

जब ट्रोल हुए मनोज तिवारी

भारतीय जनता पार्टी के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी अपने एक ट्वीट को लेकर जमकर ट्रोल हो रहे हैं. मनोज तिवारी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए आठ फरवरी को हुए मतदान के दिन ट्वीट कह कहा था- ‘सभी एग्जिट पोल फेल होंगे। मेरा यह ट्वीट संभाल कर रखिएगा’. अब जब दिल्ली विधानसभा चुनाव परिणाम में आए रुझानों से दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार बनती हुई दिख रही है तो ट्विटर पर लोग मनोज तिवारी को जमकर ट्रोल कर रहे हैं और उनसे कह रहे हैं कि अब अंडरग्राउंड होने का वक्त आ गया है.

यह भी पढ़े : 63/70: In Delhi, development trumps hate

आइये अब देखते हैं कि आप की जीत पर किसने क्या कहा…

वरिष्ट कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने ट्वीट कर आप को जीत की मुबारकबाद देते हुए कहा, ‘AAP की जीत हुई, बेवकूफ बनाने तथा फेंकने वालों की हार. दिल्ली के लोग, जो भारत के सभी हिस्सों से हैं, ने BJP के ध्रुवीकरण, विभाजनकारी और खतरनाक एजेंडे को हराया है। मैं दिल्ली के लोगों को सलाम करता हूं जिन्होंने 2021 और 2022 में अन्य राज्यों जहां चुनाव होंगे के लिए मिसाल पेश की है’.

ALSO READ:  Delhi Government launches “Rozgaar Bazaar” Job Portal

राजेंदर नगर से चुनाव जीतने वाले आप के राघव चड्ढा ने कहा, ‘दिल्ली के लोगों ने साबित कर दिया है कि दिल्ली के बेटे अरविंद केजरीवाल आतंकवादी नहीं बल्कि सच्चे देशभक्त हैं. वे राष्ट्र निर्माण के लिए काम कर रहे हैं, वे जो काम कर रहे हैं वह देशभक्ति का निर्माण करता है। जो बीजेपी कर रही है वह देशभक्ति नहीं है’.

भाजपा की ओर से पश्चिमी दिल्ली लोकसभा सीट के तहत आने वाली हरिनगर सीट से चुनाव लड़ने वाले तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने आप की जीत पर कहा, ‘क्या हार में क्या जीत में,किंचित नहीं भयभीत मैं. संघर्ष पथ पर जो भी मिला, यह भी सही वह भी सही. हरि नगर विधानसभा के सभी मतदाताओं का और सभी कार्यकर्ता मित्रों का हार्दिक धन्यवाद’.

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने अरविंद केजरीवाल को जीत की बधाई दी. नड्डा ने कहा- हम दिल्ली का जनादेश स्वीकार करते हैं और सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभाएंगे.

भाजपा के मनोज तिवारी ने कहा, ‘दिल्ली की जनता का फैसला सिर माथे पर, केजरीवाल जी को बहुत-बहुत बधाई. दिल्ली की जनता ने कुछ सोच-समझकर ही फैसला लिया है. हमारी अपेक्षा खरी नहीं उतरी। हार की समीक्षा करेंगे’.