आज तक के इस पोस्टर ने भड़काई धार्मिक भावनाएँ, मिला नोटिस

ग्राउंड रिपोर्ट | न्यूज़ डेस्क

अयोध्या पर फैसला आने वाला है। सभी चैनल TRP बटोरने को तैयार बैठे हैं। इस फैसले का बरसों से इंतेज़ार कर रही जनता भी टीवी पर टकटकी लगाए बैठी हैं। लेकिन हमारे न्यूज़ चैनल इतने संवेदनशील मुद्दों पर भी गंभीर नहीं दिखाई देते। कई न्यूज़ चैनल अपनी भड़काऊ भाषा से लोगों की धार्मिक भावनाओं को आहत करने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसा ही एक मामला सामने आया देश के सबसे बड़े हिंदी न्यूज़ चैनल आज तक से। आज तक ने अपने एक कार्यक्रम का पोस्टर सोशल मीडिया पर जारी किया, जिसको लेकर विवाद खड़ा हो गया है। इस पोस्टर में लिखा है ” जन्मभूमि हमारी, राम हमारे मस्ज़िद वाले कहाँ से पधारे”

इस पोस्टर पर साकेत गोखले नामक एक्टिविस्ट नें आज तक को नोटिस भेजा है, जिसमें चैनल पर जानबूझकर लोगों की धार्मिक भावनाएं भड़काने के लिए इस तरह की भाषा के उपयोग का आरोप लगाया गया है। अयोध्या मामले पर फैसला अभी सुप्रीम कोर्ट में लंबित है ऐसे में इस तरह की भाषा का इस्तेमाल जिसमे सीधे तौर पर एक पक्ष का समर्थन किया गया है, सुप्रीम कोर्ट की अवमानना है। अयोध्या विवाद ने इतिहास में देश का साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ा है। नोटिस में चैनल से जनता से माफी मांगने और ट्वीट को तुरंत डिलीट करने को कहा गया है। अगर चैनल ऐसा नहीं करता तो उसके खिलाफ आपराधिक मामला बनाया जा सकता है। और कानूनी कार्यवाही की जा सकती है। साकेत गोखले ने चैनल से 24 घंटे के भीतर सार्वजनिक तौर माफी मांगने को कहा है। अब तक इस मामले पर आज तक कि ओर से कोई जवाब नहीं आया है।

आज सुबह NBA (न्यूज़ ब्रॉडकास्टर असोसिएशन) ने भी चैंनलों से संतुलित, निष्पक्ष और संयमित भाषा इस्तेमाल करने की अपील की थी। NBA द्वारा जारी गाइडलाइन में भी चैंनलों से कहा गया था कि चैंनलों की कवरेज से किसी भी तरह लोगों की धार्मिक भावना न भड़के। देश मे साम्प्रदायिक सौहार्द बना रहे। लेकिन आजतक के इस पोस्टर को देखकर लगता है कि चैंनलों की इसकी कोई फिक्र नहीं है।