Home » अंतिम संस्कार कर चुके थे परिजन, 15 दिन बाद लौटी महिला तो हैरान हो गया पूरा गांव

अंतिम संस्कार कर चुके थे परिजन, 15 दिन बाद लौटी महिला तो हैरान हो गया पूरा गांव

Covid | अंतिम संस्कार के 15 दिन बाद घर लौट आयी कोरोना संक्रमित महिला !
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk | Covid | आंध्र प्रदेश के कृष्णा ज़िले में स्वास्थ्य अधिकारियों की बड़ी चूक के बाद एक अजीबोगरीब स्थिति पैदा हो गई है। घर वालों ने जिस महिला का अंतिम संस्कार कर दिया था वह 15 दिन बाद वापिस लौट आयी है। दरअसल, कुछ गलती की वजह से उन्होंने किसी और महिला को अपना रिश्तेदार समझ कर अंतिम संस्कार कर दिया जबकि असली महिला अस्पताल में जीवित थी।

लॉकडाउन में पंडितों ने बदले नियम, शादी से लेकर अंतिम संस्कार तक सब ऑनलाइन

कृष्णा जिले के जग्गय्यापेटा में रहने वाली 75 वर्षीय मुथ्याला गिरिजाम्मा कोविड-19 (Covid-19) से संक्रमित हुई थी और 12 मई से उनका इलाज विजयवाड़ा के सरकारी अस्पताल में चल रहा था। उनके पति गदय्या उनका हाल-चाल लेने के लिए अस्पताल जाते रहते थे, पर जब वह 15 मई को वहां पहुंचे तो गिरिजाम्मा कोविड वार्ड में नहीं थी। जब उन्होंने अस्पताल के कर्मचारियों से पूछा तो जानकारी मिली की बिमारी के कारण गिरिजाम्मा की मौत हो गयी है। जिसके बाद वह मुर्दाघर में गये, एक बूढ़ी औरत के शव को यह मानते हुए कि वह उनकी पत्नी है, उसे अपने गृह गाँव, जग्गय्यापेटा में ले गया। उसी दिन पारिवारिक परंपराओं के अनुसार अंतिम संस्कार किया गया।

READ:  Uttar Pradesh Elections 2021: देर रात तक चली बीजेपी की हाई लेवल मीटिंग

कोविड (Covid) नियमो की वजह से किसी ने लाश को ढकने वाली किट को नहीं हटाया, और ऐसे ही अंतिम संस्कार कर दिया। 23 मई को गिरिजाम्मा के 35 वर्षीय बेटे रमेश की कोरोना से मृत्यु होगयी। दोनों की याद में एक जून को सभी घरवालों ने प्रोग्राम भी करवाया पर अगले दिन गिरिजाम्मा कोविड से ठीक होने के बाद घर वापस आ गयीं। सभी गाँव वाले उन्हें देख कर स्तब्ध थे फिर उन्होंने पूरी जानकारी दी की वह कोविड से रिकवर होने के बाद सुबह ही अस्पताल से डिस्चार्ज हुई है।

लगातार एक ही मास्क पहनने से Black Fungus का खतरा?

उन्होंने ये भी कहा की किसी घर वाले के अस्पताल ना आने की- वजह से वह बेहद नाराज़ थी और अस्पताल वालों ने तीन हज़ार रूपए दिये और उनके स्वस्थ और घर पहुंचने का इंतेज़ाम कराने का आश्वासन दिया लेकिन महिला खुद घर चली आयी। महिला के घर वाले अब अस्पताल वालो से सवाल कर रहे है।

READ:  PhD Scholar Sonia Dabas Suicide Case: अवैध संबंध बनाने का दबाव डाल रहा था विभाग का प्रोफेसर

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।