Home » दुनिया के वो 5 देश, जहां निहत्थी घूमती है पुलिस फिर भी काबू में रहते हैं अपराध

दुनिया के वो 5 देश, जहां निहत्थी घूमती है पुलिस फिर भी काबू में रहते हैं अपराध

दुनिया के वो 5 देश, जहां निहत्थी घूमती है पुलिस फिर भी काबू में रहते हैं अपराध
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

किसी भी देश की सुरक्षा और कानून व्यवस्था को बनाए रखने की जिम्मेदारी पुलिस की होती है। ऐसे में पुलिस को हथियार जरूरी होता है। लेकिन आज हम आपको ऐसे देशों के बारे में बताएंगे, जिन्होंने बगैर हथियार के मजबूत सुरक्षा तंत्र के साथ शांति और आंतरिक सुरक्षा की बेहतर तस्वीर पेश की है।

1

नार्वे पुलिस का मानना है कि निहत्थी पुलिस आतंकवाद के डर से बेहतर है। साल 2011 में एक हथियारबंद व्यक्ति ने यहां समर कैंप पर हमला कर 77 लोगों को मौत के घाट उतार दिया था। लेकिन पुलिस ने देर से और ढीले ढंग से प्रतिक्रिया दी, जिससे नार्वे के लोग काफी नाराज थे। इस त्रासदी के बावजूद भी नॉर्वे की पुलिस ज्यादातर निहत्थी ही रहती है

2

ब्रिटेन एक ऐसा देश है, जहां पुलिस खुद हथियार नहीं रखना चाहती है। यहां पेट्रोलिंग के दौरान पुलिसकर्मी बिना हथियारों के घूमते हैं। क्योंकि उनका मानना है कि पैट्रोलिंग के समय नागरिकों की रक्षा का कर्तव्य पुलिस का होता है और नागरिकों को बिना झिझके पुलिस की मदद लेने का हक होता है।

READ:  China should avoid looking at ties with India as third country: S Jaishankar
3

वैसे तो तीन लाख की आबादी वाला आइसलैंड बहुत छोटा देश है। लेकिन इस देश की सबसे खास बात ये है कि यहां एक तिहाई नागरिकों के पास हथियार हैं। इसके बावजूद भी आइसलैंड में पुलिसकर्मी ज्यादातर समय बिना हथियारों के घूमती है। आइसलैंड में अपराध बहुत कम है। नागरिकों के पास हथियार शिकार के लिए हैं। आइसलैंड में अपराध कम होने की मुख्य वजह ये भी है कि यहां लैंगिक असमानता बहुत कम है

4

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि आयरलैंड में सिर्फ 20 से 25 फीसदी पुलिस अफसर ही बंदूक जैसे हथियार चलाना जानते हैं। इसके बावजूद भी आयरलैंड में अपराध की दर बहुत कम है

5

न्यूजीलैंड में केवल एक दर्जन पुलिसकर्मी ही अपने साथ हैंडगन रखते हैं। क्रिमिनोलॉजी प्रोफेसर जॉन बटल ने लिखा था कि न्यूजीलैंड में हथियार न रखने पर पुलिसकर्मी अफसर ज्यादा सुरक्षित हैं।

READ:  Pakistan: Gender discrimination growing in school books

मध्य प्रदेश उपचुनाव: बीजेपी की योजना जमीनी स्तर पर तय!

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups