उत्तर प्रदेश : सड़क दुर्घटना में 24 प्रवासी मज़दूरों की मौत, 37 घायल

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | UP

उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में शनिवार तड़के सुबह ट्रक और डीसीएम वैन की टक्कर में 24 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई, जबकि 37 मजदूर घायल हो गए। इनमें से गंभीर रूप से घायल 14 मजदूरों को सैफेई इटावा के पीजीआई में भर्ती कराया गया है। ये सभी राजस्थान से बिहार-झारखंड जा रहे थे । पुलिस के अनुसार, यह घटना मिहौली इलाके में शनिवार तड़के तीन बजे से 3:30 बजे के बीच हुई। राजस्थान की ओर से आ रहा ट्रक दिल्ली की ओर से आ रहे डीसीएम वैन से टकरा गया। इस ट्रक में लगभग 50 मजदूर सवार थे।

कानपुर के पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल ने बताया, ‘शनिवार सुबह एक डीसीएम वैन दिल्ली से मजदूरों को लेकर आ रही थी। इनमें से कुछ मजदूर औरैया और कानपुर देहात मार्ग पर वैन को रोककर सड़क किनारे एक चाय की दुकान पर चाय पी रहे थे, तभी राजस्थान के जयपुर से मजदूरों को लेकर आ रहे एक ट्रक ने इस वैन को टक्कर मार दी। टक्कर इतनी जबरदस्त थी कि दोनों वाहन सड़क किनारे बने गड्ढे में जा गिरे।’

ट्रक में चूने की बोरियां लदी हुई थीं जिनके बीच मजदूर सो रहे थे. हादसे के बाद ट्रक के भीतर से चूने में दबे शवों को एक-एककर बाहर निकाला गया। इनमें से ज्यादातर मजदूर बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल के हैं। चश्मदीदों के मुताबिक, यह हादसा उस वक्त हुआ जब कई मजदूर डीसीएम रोककर चाय पी रहे थे। बताया जा रहा है कि हादसे में मरने वाले मजदूरों की तादाद कहीं ज्यादा होती अगर वे चाय पीने के लिए उतरे नहीं उतरते। मरने वालों में से ज्यादातर मजदूर टक्कर मारने वाले ट्रक में सवार थे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने औरैया में घटित हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना को संज्ञान में लिया है। उन्होंने इस दुर्घटना में जान गंवाने वाले मजदूरों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की है। इस बात की जानकारी अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने दी। मुख्यमंत्री योगी ने पीड़ितों को हर संभव राहत प्रदान करने के साथ-साथ सभी घायलों का समुचित उपचार कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने मंडलायुक्त कानपुर और आईजी कानपुर को तत्काल मौके पर पहुंचकर राहत कार्य अपनी देखरेख में संपन्न कराने, दुर्घटना के कारणों की जांचकर आख्या उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घटना पर शोक जताते हुए ट्वीट कर कहा, ‘उत्तर प्रदेश के औरैया में सड़क दुर्घटना बेहद ही दुखद है। सरकार राहत कार्य में तत्परता से जुटी है इस हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों के प्रति अपनी संवेदना प्रकट करता हूं, साथ ही घायलों के जल्द से जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।’

मालूम हो कि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन के कारण प्रवासी मजदूरों के सामने आजीविका का संकट खड़ा हो गया है और वे अपने गृह राज्यों की ओर पलायन करने को मजबूर हैं। उनके साथ लगातार हादसों की खबरें आ रहीं हैं। इससे पहले महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक मालगाड़ी की चपेट में आने से 16 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई थी। इससे पहले बीती 14 मई की देर रात उत्तर प्रदेश के जालौन और बहराइच में दो अलग-अलग सड़क दुर्घटनाओं में तीन प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई, जबकि 71 अन्य घायल हो गए थे। लॉकडाउन के कारण अब तक 300 से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं ।

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।