Home » अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश से आने वाले 560 से अधिक मुस्लिम शरणार्थियों को दी नागरिकता : सरकार

अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश से आने वाले 560 से अधिक मुस्लिम शरणार्थियों को दी नागरिकता : सरकार

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ग्राउंड रिपोर्ट। न्यूज़ डेस्क

गृहमंत्री अमित शाह (Amit shah) ने संसद को बताया कि पिछले पांच साल में अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश से आने वाले 560 से अधिक मुस्लिम शरणार्थियों को नागरिकता (Citizenship) दी गई।साल 2019 में छह दिसंबर तक 40 अफगान और 712 पाकिस्तानी प्रवासियों को भारतीय नागरिकता दी गई।राय ने बताया कि उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, अफगानिस्तान और पाकिस्तान से आए 927 सिखों और हिंदुओं को 2016 से भारतीय नागरिकता प्रदान की गई।

किसी प्रकार के विशेष अधिकारों का तो सवाल ही नहीं है उन्हें नागरिकों के अधिकार भी प्राप्त नहीं होने चाहिए : गोवलकर

सरकार ने बुधवार को बताया कि साल 2016 से दिसंबर 2019 तक 431 अफगान और 2,307 पाकिस्तानी प्रवासियों को भारतीय नागरिकता प्रदान की गई। गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने राज्यसभा को एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 2016 से 2018 के दौरान 391 अफगान और 1,595 पाकिस्तानी प्रवासियों को भारत की नागरिकता प्रदान की गई।

नागरिकता के आंकड़े ऑनलाइन करने का प्रावधान 2018 में किया गया

बुधवार को राज्यसभा से पारित हुए नागरिकता संशोधन विधेयक (citizenship amendment bill 2019) में अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान से धार्मिक प्रताड़ना के कारण भारत आए हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदायों के लोगों को भारतीय नागरिकता देने का प्रावधान किया गया है। नागरिकता संशोधन विधेयक में उन मुसलमानों को नागरिकता देने के दायरे से बाहर रखा गया है जो भारत में शरण लेना चाहते हैं।

READ:  What will be investigation against Aroosa Alam and Amarinder Singh?

पूर्वोत्तर के राज्यों में तेज़ी से फ़ैल रही प्रदर्शन की आग, गुवाहाटी में लगा अनिश्चितकाल कर्फ्यू

मंत्री ने बताया कि अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश में रहने अल्पसंख्यक समुदायों के प्रवासियों की नागरिकता के आंकड़े ऑनलाइन करने का प्रावधान 2018 में किया गया।उन्होंने बताया कि ऑनलाइन आंकड़ों के अनुसार, बीते तीन साल में 2016 से 2018 तक 91 अफगान और 1,595 पाकिस्तानी प्रवासियों को भारत की नागरिकता प्रदान की गई।