Home » 2000 रुपए का नोट छपना बंद नहीं हुआ है, वित्त मंत्रालय का संसद में जवाब

2000 रुपए का नोट छपना बंद नहीं हुआ है, वित्त मंत्रालय का संसद में जवाब

2000 रुपए के नोट की छपाई जारी रहेगी
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

2000 रुपए का नोट सरकार ने छापना बंद नहीं किया है। यह जानकारी वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने संसद में लिखित रुप में दी है। अपने जवाब में उन्होंने कहा कि सरकार रिज़र्व बैंक के साथ मिलकर तय करती है कि कौनसे नोट कितनी मात्रा में छापे जाएंगे।

कोरोना महामारी के कारण रुका था नोट छापने का काम

अनुराग ठाकुर ने संसद को बताया कि मार्च 31, 2020 में 27,398 लाख 2000 के नोट चलन में थे जबकि मार्च 31, 2019 में इनकी संख्या 32,910 लाख थी। ठाकुर ने बताया कि रिज़र्व बैंक द्वारा कोरोना महामारी और देशव्यापी लॉकडाउन की वजह से अस्थाई रुप से नोटों की छपाई रोकी गई थी। अब चरणबद्ध तरीके से केंद्र के गाईडलाईन के अनुरुप इसे फिर से बहाल कर दिया गया है।

ALSO READ: GOLD GST: अब पुराने गहने बेचने पर भी देना पड़ सकता है टैक्स

भारतीय रिज़र्व बैंक नोट मुद्रण प्राईवेट लिमिटेड में मार्च 23, 2020 से मई 3, 2020 तक नोट छपाई बंद रही जिसे मई 4, 2020 को फिर से बहाल किया गया है।

नासिक और देवास में भी 23 मार्च 2020 से लॉकडाउन की वजह से नोट छपाई बंद थी। जिसे जून में फिस से बहाल कर दिया गया है।

2000 का नोट बंद हो जाएगा, यह अफवाह सोशल मीडिया पर फैलाई गई

बाज़ार में 2 हज़ार के नोटों में कमी आने की वजह से लोगों में यह अफवाह फैल गई थी कि सरकार जल्द ही 2 हज़ार का नोट बंद कर फिर से 1000 का नोट लाने वाली है। लेकिन सरकार ने संसद में लिखित जवाब देकर यह साफ कर दिया कि उनकी अब ऐसी कोई मंशा नहीं है।

ALSO READ: RBI का नया नियम : बैंक अब इन ग्राहकों का नहीं खोलेगा खाता

नोटबंदी की दहशत अबतक

आपको बता दें कि मोदी सरकार ने रातों रात नोटबंदी कर 1000 और 500 के नोट प्रतिबंधित कर दिए थे। इसका उद्देश्य काले धन पर रोक लगाना था। लोगों को सरकार के इस फैसले के बाद कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ा था।

हालांकि सरकार का उद्देश्य पूरी तरह विफल रहा और इसका प्रभाव देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ा। सरकार ने मार्केट में नोट की कमी को पूरा करने के लिए फिर 2000 का नोट जारी किया। अभी भी लोगों में नोटबंदी का भय साफ देखा जा सकता है, इसी लिए नई-नई अफवाहें फैलती रहती है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।