योगी के खिलाफ 200 विधायक बैठे धरने पर, अपनी ही सरकार पर लगाया उत्पीड़न का आरोप

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ग्राउंड रिपोर्ट । उत्तर प्रदेश

यूपी विधानसभा में अपनी ही सरकार पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए बड़ी संख्या में भाजपा विधायक धरने पर बैठ गए। विपक्ष भी उनके समर्थन में आ गया है। यह पहला मौका है जब सत्ता पक्ष की वजह से सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी। मामले में भाजपा की किरकिरी हो गई है। भाजपा विधायक नंद किशोर गुर्जर ने सरकार पर उत्पीड़न करने का आरोप लगाया। जिस पर बड़ी संख्या में भाजपा विधायक भी उनके समर्थन में आ गए। इनके हंगामा करने के कारण सत्र के पहले दिन की कार्यवाही स्थगित हो गई।

ALSO READ:  पीएम मोदी ने निकाली 69 लाख वैकेंसियां, काम होगा ट्रंप को देखकर हाथ हिलाना : कांग्रेस

CAA पर बोले फ़िल्म अभिनेता जीशान- लोगों को धर्म के आधार पर बांटने के लिए लाया गया है ये बिल

भाजपा विधायक नंद किशोर गुर्जर ने सरकार पर उत्पीड़न करने का आरोप लगाया। जिस पर बड़ी संख्या में भाजपा विधायक उनके समर्थन में आ गए। धरने पर बैठ गए हैं। सदन में विधायकों को बोलने नहीं देने का आरोप लगाया गया है। स्थानीय पत्रकारों के मुताबिक उत्तर प्रदेश के एक विधायक से पूछताछ करने के लिए पिछले दिनों रात में पुलिस पहुंची थी। विधायक इस मामले को विधानसभा में उठाना चाहते थे। लेकिन उन्हें विधानसभा में बोलने नहीं दिया गया। जिसके बाद भारतीय जनता पार्टी के विधायक नाराज होकर धरने पर बैठ गए।

ALSO READ:  दिलवालों की दिल्ली में जब कुछ दरिंदे जा बैठे

देश का बंटवारा कर देगा नागरिकता संशोधन कानून : प्रियंका गांधी

विधानसभा कल तक के लिये स्थगित हो गयी है पर भाजपा विधायकों के साथ विपक्ष के भी विधायक समर्थन में धरने पर बैठे हैं। विधायकों का आरोप है कि लगातार कई माह से उत्पीड़न हो रहा है। चंद अफसर मुख्यमंत्री को गुमराह कर रहे हैं। विधायक और मीडिया के लोगों को अधिकारी निशाना बना रहे हैं। भाजपा विधायकों की लगातार बेइज्जती की जा रही है। विधायक ने मुख्यमंत्री से पूछा है कि चार महीने में स्थायी मुख्य सचिव क्यों नियुक्त नहीं किया गया।