‘कुछ लोग कहते थे ख़ून की नदियां बह जाएंगी, एक मच्छर तक न मरा’

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देशभर में सीएए को लेकर मचे धमासान के बीच भाजपा अपना जन जागरुक अभियान ज़ोर-शोर से कर रही है। इसी अभियान को तहत रविवार को गोरखपुर में आयोजित एक सभा में यूपी के सीएम योगी ने राम मंदिर निर्माण पर चर्चा करते हुए कहा कि 500 साल से हिंदू चाहते थे अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर बने। पहले मुगल और फिर अंग्रेज इसे लटकाते रहे। कांग्रेस ने भी उसी सिलसिले को आगे बढ़ाया। लोग कहते थे कि राम मंदिर का फैसला आएगा तो खून की नदी बहेगी और हमने कहा था कि एक मच्छर भी नहीं मरेगा।

CAA पर मौन नहीं रहा जा सकता है

योगी ने सीएए के पक्ष में खुलकर बात करने की अपील की है। योगी ने कहा कि यह देश से जुडा एक बेहद ही गंभीर मामला है। इस मामले पर मौन नहीं रहा जा सकता है। इसे लेकर मुख्यमंत्री ने महाभारत के द्रौपदी चीरहरण प्रसंग का जिक्र किया। बताया कि विदुर ने चीरहरण की घटना के लिए तीन लोगों को दोषी माना था। पहले वह जो जिन्होंने वह अपराध किया, दूसरे वह जो अपराध में सहयोगी रहे और तीसरे वह जिन्होंने उसे लेकर मौन धारण कर लिया। आज जब देश का चीरहरण हो रहा है, तो किसी भी रूप में घटना का दोष न बने। ऐसे सीएए के पक्ष के लिए मौन तोडना बहुत जरूरी है।

महिलाओं को आगे करके विपक्षी साज़िश रच रहे हैं

सीएए पर हो रहे विरोध पर बोतले हुए योगी ने कहा कि विपक्षियों द्वारा ये सब कराया जा रहा है। प्रदर्शनों को भारी फंड दिया जा रहा है। महिलाओं को आगे करके विपक्षी साज़िश रच रहे हैं। इसे देखते हुए सरकार ने यह निर्णय लिया कि जो भी व्यक्ति बहकावे में आकर राष्ट्र की संपत्ति का नुकसान करेगा उसकी भरपाई उसी से की जाएगी। क्योंकि राष्ट्रहित सबसे पड़ा पुण्य है और राष्ट्रद्रोह सबसे बड़ा पाप।