Home » दिल्ली में 31 मई से अनलॉक प्रक्रिया- फैक्ट्री, निर्माण कार्य खुलेंगे

दिल्ली में 31 मई से अनलॉक प्रक्रिया- फैक्ट्री, निर्माण कार्य खुलेंगे

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली । दिल्ली में 31 मई से चरणबद्ध अनलॉकिंग की प्रक्रिया शुरू की जा रही है जिसके तहत प्रथम चरण में फैक्ट्री और निर्माण गातिविधियों को शुरू किया जाएगा। एक महीने से अधिक समय तक लॉक डाउन में रहने और जानलेवा महामारी का सामना करने के बाद अब दिल्ली में संक्रमण दर 1.5% हो गई है। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के दो करोड़ लोगों ने मिलकर कोरोना की दूसरी लहर पर अब काबू पा लिया है। डीडीएमए की बैठक में फैक्ट्री और निर्माण गतिविधियों को अभी एक सप्ताह के लिए खोलने का निर्णय लिया गया है। जनता के सुझावों पर आगे भी हम धीरे-धीरे अनलाॅक की प्रक्रिया जारी रखेंगे।

केजरीवाल ने चेताया कि कहीं ऐसा न हो कि एकदम से लाॅकडाउन खोलने से हमें उसका नुकसान हो जाए और फिर से कोरोना बढ़ने लगे। अगर ऐसा हुआ, तो सरकार के पास दोबारा लाॅकडाउन लगाने के अलावा और कोई चारा नहीं बचेगा। मेरी अपील है कि सभी लोग कोविड-19 के एहतियात अवश्य बरतें। यह बहुत ही नाजुक समय है। जब तक जरूरत न पड़े, तब तक घर से बाहर न निकलें।

केजरीवाल ने एलजी की अध्यक्षता में आज संपन्न हुई डीडीएमए की बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णयों की जानकारी दिल्ली की जनता से साझा की। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के कोरोना के केस लगातार कम हो रहे हैं। पिछले 24 घंटे में लगभग 1.5 फीसद संक्रमण दर आया है और 1100 के करीब केस आए हैं। धीरे-धीरे, धीरे-धीरे रोज कोरोना के केस कम हो रहे हैं और संक्रमण दर भी कम हो रही है। अस्पतालों के अंदर अब बेड मिलने में किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं है। आईसीयू बेड भी काफी खाली हो गए हैं। ऑक्सीजन बेड भी काफी खाली हो गए हैं। हम लोगों ने जितने कोविड-19 केंद्र खोले थे, उसमें भी काफी बेड उपलब्ध हैं। इसलिए अब धीरे-धीरे अनलॉकिंग करने का यह समय है। कहीं ऐसा न हो कि लोग कोरोना से तो बच जाएं, लेकिन भुखमरी से लोग मर जाएं। इसलिए हमें संतुलन बनाकर चलना है कि एक तरफ कोरोना को भी नियंत्रण करना है और दूसरी तरफ आर्थिक गतिविधियों को भी साथ-साथ कोशिश करनी है कि जहां-जहां जितना बन सके, उतने की अनुमति दी जाए।

READ:  Nagda: 10 बच्चों में पाए गए मल्टी सिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम (MISC), तीसरी लहर की ओर इशारा

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सोमवार को सुबह 5ः00 बजे तक यह लॉकडाउन है। आज एलजी की अध्यक्षता में आज दिल्ली डिजाॅस्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (डीडीएमए) बैठक हुई। लाॅकडाउन खोलने के लिए बैठक में कुछ निर्णय लिए गए हैं। सबसे पहले कि अब धीरे-धीरे, धीरे-धीरे लॉकडाउन खोलने की प्रक्रिया चालू कर रहे हैं। बड़ी मेहनत से, बड़ी मुश्किल से कोरोना काबू में आया है। लेकिन अभी पूरी लड़ाई जीती नहीं है। पिछले एक महीने के लाॅकडाउन का अभी तक हमें फायदा हुआ है। ऐसा न हो कि एकदम से खोल दें, तो उसका नुकसान हो जाए। इसीलिए सभी विशेषज्ञों का यह मानना है कि लाॅकडाउन को धीरे-धीरे खोला जाए। लाॅकडाउन खोलने के दौरान हमें सबसे पहले उन लोगों का ख्याल रखना है, जो समाज का सबसे गरीब तबका हैं, मजदूर हैं, दिहाड़ी मजदूर हैं, प्रवासी मजदूर हैं। उत्तर प्रदेश, बिहार समेत आसपास के और राज्यों से लोग आजीविका कमाने के लिए दिल्ली आते हैं। काफी लोग दिहाड़ी का काम करते हैं और बहुत ही मुश्किल परिस्थितियों के अंदर जीते हैं। हमें ऐसे मजदूर सबसे ज्यादा निर्माण गतिविधियों और फैक्ट्रियों में काम करने वाले मिलते हैं। डीडीएमए की बैठक में तय किया गया है कि इन दो गतिविधियों को सोमवार को सुबह से खोला जाएगा। सोमवार को सुबह 5ः00 बजे जब यह लॉकडाउन खत्म होगा, तो अगले एक हफ्ते के लिए इन दोनों निर्माण गातिविधि और फैक्ट्री को खोला जा रहा है।

अगर कोरोना फिर से बढ़ने लगा, तो हमें आर्थिक गतिविधियों को खोलने की प्रक्रिया को रोकना पड़ेगा “

अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने आगे कहा कि अब हफ्ता दर हफ्ता हम जनता के सुझावों के आधार के ऊपर और विशेषज्ञों की राय के आधार पर इसी तरह से धीरे-धीरे लॉकडाउन खोलने की प्रक्रिया जारी रखेंगे। बशर्ते कि कोरोना फिर से बढ़ने न लगे। अगर बीच में ऐसा लगता है कि कोरोना फिर से बढ़ने लग गया, तो फिर हमें आर्थिक गतिविधियों को खोलने की प्रक्रिया को भी रोकना पड़ेगा। मेरी आप सब लोगों से गुजारिश है कि कोरोना से संबंधित जो भी एहतियात हैं, उसको जरूर बरतें। एक तो अपनी सुरक्षा, अपने परिवार की सुरक्षा, अपनी सेहत और अपनी जिंदगी के लिए और दूसरा यह कि अगर सभी लोग मिलकर कोविड-19 के एहतियात बरतेंगे, तभी दिल्ली के अंदर और आर्थिक गतिविधिया खोली जा सकेंगी। अगर कोरोना फिर से बढ़ने लग गया, तो हमारे पास फिर से लाॅकडाउन लगाने के अलावा और कोई चारा नहीं बचेगा। हम नहीं चाहते हैं कि फिर से लॉकडाउन लगाना पड़े, हम लाॅकडाउन के पक्ष में बिल्कुल भी नहीं है और आप भी नहीं चाहते हैं। लॉकडाउन कोई अच्छी चीज नहीं है, इसे मजबूरी में लगाना पड़ता है।

READ:  Covid: States come into action after SC order, taken care of orphaned children

सीएम अरविंद केजरीवाल ने लोगों से पुनः अपील करते हुए कहा कि जब तक बहुत जरूरत न पड़े, तब तक घर से बाहर न निकलें। बहुत जरूरी हो, तभी घर से बाहर निकलें। जरूरत न हो, तो घर से बाहर न निकलें। यह बहुत ही नाजुक समय है। हम सबको बड़ी जिम्मेदारी के साथ आचरण करना है, ताकि हम सब मिलकर अपनी दिल्ली को बचा सकें, अपने देश को बचा सकें।